युवक-युवती ने कुएं में कूद जान दी, 4 दिन पहले ही प्रेमप्रसंग से नाराज घरवालों ने युवती को फुफेरी बहन के घर छोड़ा था

मनोहर कुमार पारीक 

झीगर छोटी में युवक-युवती ने सोमवार शाम को सूखे कुएं में कूद कर आत्महत्या कर ली। दोनों के बीच में करीब एक साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। रोलिंग मशीन से करीब डेढ़ घंटे की मशक्कत से दोनों के शवों को बाहर निकाला गया। दादिया पुलिस ने दोनों के शवों को एसके अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया है। युवती शारदा के परिजनों ने शाम चार बजे झीगर छोटी निवासी सूरजभान के खिलाफ रात को घर से ले जाने का मुकदमा दर्ज कराया था। शारदा चार दिन पहले से बुआ की लड़की के पास रह रही थी। दादिया थानाधिकारी बिजेंद्र सिंह ने बताया कि सूरजभान पुत्र आशाराम निवासी झीगर छोटी व युवती ने गांव के पास बीहड़ के अंदर बने सूखे कुएं में कूद कर आत्महत्या कर ली। दोनों के बीच में करीब एक साल से प्रेम प्रसंग की बात सामने आई है। उन्होंने बताया कि शाम को आठ बजे कुएं के पास पड़ी बाइक को देखकर राहगीर ने सूचना दी। कुआं जमीन के लेवल में ही बना हुआ था। तब तक गांव के लोग भी कुएं पर पहुंच चुके थे। पुलिस टीम ने कुएं में झांक कर देखा तो अंदर दोनों पड़े हुए थे। आवाज लगाने पर कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई। इसके बाद पुलिस ने रोलिंग मशीन मंगवाई। कुएं के पास काफी अंधेरा था। पुलिस ने रोशनी की भी व्यवस्था की। सूचना मिलने पर दोनों के परिजन भी गांव से आकर कुएं के पास पहुंच गए। पुलिस ने गांव के ही युवक शंभूदयाल को सौ फीट गहरे कुएं में नीचे उतारा। इसके बाद दोनों के शवों को रस्सी से बांध कर रोलिंग मशीन के जरिए बाहर निकाला गया। गहरे कुएं में गिरने से दोनों की मौत हो गई। मंगलवार को दोनों के शवों का पोस्टमार्टम करवाया जाएगा।

परिजनों के आने का शक होते ही कुएं की तरफ चले गए

युवती को परिजनों ने चार दिन पहले बुआ की लड़की के घर पर भेज दिया था। वहां से रविवार रात साढ़े 11 बजे सूरजभान बाइक पर बैठा कर ले गया। दोनों साथ में ही घूमते रहे। युवती के परिजनों ने रिपोर्ट भी दर्ज करा दी। इसके शाम 7 बजे दोनों को गांव में आते हुए देखा गया। परिजनों को भी उनके गांव में आने का पता लग गया। दोनों को परिजनों के आने का शक हो गया तो वे बीड़ में बने कुएं की तरफ तेजी से चले गए। कुएं के पास ही दोनों बाइक से उतरे और जल्दबाजी में बाइक को बिना स्टैंड लगाए पटक दिया। इसके बाद दोनों कुएं की मुंडेर पर खड़े होकर कूद गए। परिजन व पुलिस भी पहुंच गई। सूरजभान की मां दीनारपुरा स्कूल में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है। युवक मजदूरी करता था और युवती ने 10 वीं कक्षा के बाद से पढ़ाई छोड़ दी थी। दोनों आसपास ही रहते थे।