चाइनीज डोर ने काट दी जिंदगी की एक और डोर, खून बहता देख सहम गए लोग

नई दिल्ली: तिमारपुर इलाके में सोमवार दोपहर बाइक से घर के कूलर के लिए घास लेने मार्केट जा रहे एक युवक की गर्दन में पतंग का मांझा उलझ गया। इससे उसकी गर्दन कट गई। जख्मी को गंभीर हालत में बाबू जगजीवन राम अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां इलाज के दौरान देर रात उसकी मौत हो गई। मृतक की पहचान रवि कुमार (18) के रूप में हुई। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है।

गर्दन कटते ही खून की तेज धार बहने लगी
पुलिस के मुताबिक,रवि सपरिवार मकान नं-11, योगराज कॉलोनी स्थित निरंकारी तिमारपुर इलाके में रहता था। परिवार में पिता राम किशोर (59), मां शकुंतला (48),भाई नरेश (22), गोविंद (17) और आनंद (12) सहित अन्य सदस्य हैं। रवि पिछले तीन सालों से आनंद पर्वत स्थित बाइक के पाट्र्स बनाने वाली फैक्टरी में काम करता था। मूल रूप से यूपी के मुरादाबाद निवासी राम किशोर गोल गप्पे की दुकान चलाते थे। लेकिन कुछ समय पहले एक्सीडेंट होने से चोट लग गई, जिसकी वजह से घर पर ही रहते हैं। जबकि घर के पालन-पोषण की पूरी जिम्मेदारी बड़े भाई नरेश और रवि के ऊपर थीं। सोमवार दोपहर करीब 1:00 बजे रवि के पिता ने उसे कूलर की घास लाने के लिए कहा था। वह इसके लिए निरंकारी कॉलोनी स्थित बाजार गया था। रास्ते में एक कटी पतंग की डोर उसके गले को काटते हुए निकली। गर्दन कटते ही खून की तेज धार बहने लगी। गला कटते ही वह बाइक से गिरकर तड़पने लगा। यह देखकर वहां मौजूद लोगों सहम गए और उसे तुरंत बाबू जगजीवन राम अस्पताल में भर्ती कराया, जहां ट्रीटमेंट शुरू किया गया। देर रात इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।

अचानक पतंग की डोर गले में आकर फंस गई
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि गर्दन कटने से रवि का काफी खूब बह गया है। गर्दन काफी गहराई तक कटी हुई है। अचानक पतंग की डोर उसके के गले में आकर फंस गई थीं। इधर परिजनों ने रोष जताते हुए कहा कि चाइनीज मांझे पर रोक के बावजूद यह बिक कैसे रहा है। प्रशासन को इस ओर ध्यान देना चाहिए। डीसीपी नूपूर प्रसाद ने कहा कि अभी तक ऐसी जानकारी नहीं थी कि प्रतिबंधित मांझा बिक रहा है। हादसों का कारण बना है तो मंगलवार से ही इसकी जांच करवाई जाएगी। संबंधित दुकानदार के खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की मानें तो मांझा इतना तेज था कि युवक की गर्दन में गहरा घाव बन गया था। युवक की मौत संभवत: ज्यादा खून बहने के कारण हुई, लेकिन मौत की सही वजह का पता पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही हो पाएगा। जबकि मंगलवार को पोस्टमॉर्टम कराने के बाद पुलिस ने शव परिजनों को सौंप दिया।

दिल्ली में चाइनीज मांझे पर रोक, कैद और जुर्माना दोनों

  • उधर, पर्यावरण विभाग ने दिल्ली-एनसीआर में चाइनीज मांझे पर रोक लगा दी है। विभाग ने एक नोटिफिकेशन जारी करके एनसीआर में धार वाले सभी मांझों को बैन कर दिया है।
  • इसमें चाइनीज धागों के साथ नायलॉन, प्लास्टिक और कांच के इस्तेमाल से बनाए जाने वाले मांझे भी शामिल हैं। नोटिफिकेशन में कहा गया है कि पतंग उड़ाने के लिए केवल सूती धागे का ही प्रयोग किया जा सकता है।
  • इसमें किसी प्रकार की धातु और कांच की सामग्री का मिक्सचर नहीं होना चाहिए। इस बैन को तोडऩे वाले के लिए पांच साल की कैद या एक लाख रुपए तक के जुर्माने का प्रावधान है।
  • सजा के तौर पर कैद और जुर्माना दोनों भी हो सकता है।