जयपुर में बेची थी संपत्ति

प्रमोद के साथ फिलीपींस की निवासी फ्लोरा भी काम करती है। बताया गया कि प्रमोद ने उसका नाम बदलकर ऋद्धि मोदी रख दिया है। इस नाम से उसके फर्जी दस्तावेज भी तैयार कराये गए हैं।

निजी जासूसों की ली मदद

पीड़ित पवन ने उसके नाम से लाखों का लोन लेकर भाग निकले प्रमोद तक पहुंचने के लिए निजी जासूसों की मदद भी ली। बताया कि प्रमोद ने अपनी बेटी की शादी मेरठ में की थी, जहां से उसे प्रमोद के लखनऊ में होने की जानकारी मिली। पवन ने लखनऊ में भी कई युवकों को प्रमोद के बारे में जानकारी जुटाने के लिये लगाया था।