एवरेस्ट फतेह करने निकली कश्मीर की नाहिदा

राजेन्द्र भगत 

जम्मू,  किसी ने सच ही कहा है कि अगर मन में कुछ कर गुजरने की ठान ली जाए तो फिर रास्ते में आने वाली बड़ी से बड़ी कठिनाईयां भी छोटी सी लगती हैं। इसी को सच कर दिखाया है कश्मीर की 20 वर्षीय नाहिदा मंजूर ने जो आठ अप्रैल को नेपाल से विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट को फतेह करने निकलेंगी।

कश्मीर के ज़ेवन में छोटी सी दुकान करने वाले मंजूर अहमद पांपौरी की बेटी नाहिदा गत वीरवार को लाखों कश्मीरियों की दुआएं लेकर माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई करने को निकली हैं। विश्व भारती कॉलेज रैनावाड़ी कश्मीर की फाइनल वर्ष की छात्रा नाहिदा ने बताया कि उसका बचपन से ही ख्वाब रहा है कि वह बड़ी होकर एक लड़के की तरह अपने मां-बाप का नाम समूचे विश्व में रोशन करे। जैसे-जैसे वह बड़ी होती गई। उनके मन में पहाड़ों पर चढ़ना एक शौक बन गया और देखते ही यह शौक से कब जुनून बन गया इसका पता ही नहीं चला।

देश की सभी चोटियां फतह करने की है चाहत

नाहिदा की चाहत है कि वह कश्मीर और देश के अन्य भागों में स्थित सभी ऊंची चोटियों पर चढ़ाई कर सके लेकिन पर्याप्त संसाधन न होने की वजह से वह कुछ चोटियों पर ही चढ़ाई करने में कामयाब रहीं हैं। इनमें कश्मीर में स्थित 3966 मीटर ऊंची चोटी महादेव भी शामिल है। वह इस पर चढ़ाई करने वाली पहली कश्मीरी महिला पर्वतारोही हैं। दो दिन इस चोटी पर चढ़ाई करने को लगे लेकिन बावजूद इसके उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। इस दल में उनके साथ अन्य पुरुष प्रतिभागी थी लेकिन बावजूद इसके एकमात्र महिला प्रतिभागी होने का खौफ उनके मन में कहीं भी नहीं था।

दूसरे खेलों की भी बेहतरीन खिलाड़ी है नाहिदा

नाहिदा खो-खो, कबड्डी, वालीबॉल और राइफल शूटिंग की बेहतरीन खिलाड़ी भी हैं। उसने कई प्रतियोगिताओं में भाग लेकर पदक भी जीते हैं। नाहिदा श्रीनगर के टूरिस्ट रिसेप्शन सेंटर नाैगाम में स्थित कृत्रिम दीवार पर हर सप्ताह तीन दिन कड़ा अभ्यास करती हैं। उसकी प्रतिभा को देखते हुए ही एनसीसी, श्रीनगर द्वारा उसका चयन उत्तराखंड में स्थित 5975 मीटर ऊंची चोटी स्वर्णरोहिणी चोटी अभियान के लिए किया गया। इस अभियान से ही प्रेरित होकर उन्होंने माउंट एवरेस्ट अभियान पर जाने की मन में ठानी है।

8 अप्रैल को निकलेंगी एवरेस्ट अभियान पर

कश्मीर की नाहिदा आठ अप्रैल को नेपाल से विश्व की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट अभियान के लिए निकलेंगी। इस अभियान का आयोजन ट्रांजिट एडवेंचर क्लब हैदराबाद कर रहा है। इसमें देशभर से आठ पर्वतारोहियों को चुना गया है। इसमें जम्मू-कश्मीर की नाहिदा एकमात्र पर्वतारोही हैं। नाहिदा ने मनाली स्थित माउंटेनरिंग क्लब से एडवांस कोर्स भी किए हैं। गौरतलब है कि नाहिदा ने पैसों की कमी की वजह से एवरेस्ट अभियान पर जाने के लिए मना कर दिया था लेकिन बाद में उसके सभी दोस्तों, रिश्तेदारों ने सभी से नाहिदा के सपने को साकार करने के लिए मदद के लिए हाथ बढ़ाने की अपील की थी। उसने कश्मीर के डिप्टी कमिश्नर सहित जेएंडके बैंक के अधिकारियों से भी मदद की अपील की थी लेकिन किसी ने भी उनकी नहीं सुनी। इस दौरान हैदराबाद का ट्रांजिट एडवेंचर क्लब ने मदद के लिए हाथ बढ़ाकर उसे एवरेस्ट अभियान पर जाने के लिए हर संभव मदद की पेशकश की थी।