ममता के गढ़ में गरजे PM, कहा- अब दीदी को सबक सिखाने का वक्त आ गया है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार चुनावी रैलियां कर रहे हैं। एक बार फिर उन्होंने पश्चिम बंगाल में हुंकार भरते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जमकर हमला बोला। पीएम ने तंज कसते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल की स्पीड ब्रेकर दीदी, आज चैन से सो नहीं पा रही है। पीएम ने कहा कि अब दीदी को सबक सिखाने का समय आ गया है। जनता ने मन बना लिया है कि अब बंगाल में ना टोलागिरी चलेगी ना गुंडागिरी। आपको किसी से डरने की जरूरत नहीं है, कोई आपका वोट छीन नहीं पाएगा।

गरीब से गरीब के पास भी बैंक खाता

  • मुझे पर आजकल गालियों की जो बौछार हो रही है, चुनाव आयोग पर वो जिस तरह भड़ रही हैं, उससे भी पता चलता है कि दीदी कितनी डरी हुई है।
  • आज इस चौकीदार पर देश को इसलिए इतना विश्वास हुआ है, क्योंकि लोगों को लगने लगा है कि नामुमकिन भी अब मुमकिन है।
  • गरीब से गरीब के पास भी अपना बैंक खाता, अपना रुपे डेबिट कार्ड होगा, ये कभी नामुमकिन लगता था, लेकिन अब मुमकिन है।

नामुमकिन भी अब मुमकिन है

  • बांग्लादेश के साथ जमीन समझौता दशकों से लटका हुआ था। कूच बिहार के लिए ये कितना महत्वपूर्ण था।
  • इस समझौते पर कभी अमल होगा, ये भी नामुमकिन लगता था। लेकिन ये भी मुमकिन हुआ।
  • भारत कभी आतंकवादियों के घर में घुसकर मारेगा, ये भी नामुमकिन लगता था, लेकिन अब ये भी मुमकिन है।

मोदी से परेशान हुई दीदी 

  • मजबूत होते भारत से कुछ लोगों को कष्ट हो रहा है।
  • जब भारत अंतरिक्ष में महाशक्ति बन रहा है, तो दीदी को ये परेशान करता है।
  • जब भारत आतंक पर सख्ती दिखाता है, तब दीदी को ये परेशान करता है।
  • अब दीदी इतनी परेशान हैं कि दिन-रात एक ही बात कर रही हैं- मोदी हटाओv

दीदी ने लोगों का सपना चकनाचूर किया

  • दीदी पर आपने बहुत भरोसा किया था। लेकिन उन्होंने आपका वो भरोसा चकनाचूर कर दिया है।
  • पश्चिम बंगाल में बुआ-भतीजे का गठजोड़ इस महान धरती को गुंडों, घुसपैठियों, जानवरों और इंसानों के तस्करों, टोलाबाज़ों का गढ़ बनाने पर तुला हुआ है
  • स्पीड ब्रेकर दीदी ने अगर केंद्र सरकार की योजनाओं को रोका नहीं होता, तो आज बहुत सी सुविधाओं का लाभ आपको भी मिलता।
  • अब 2019 का ये लोकसभा चुनाव आया है दीदी को सबक सिखाने के लिए।
  • दीदी अब ऐसे लोगों का साथ दे रही हैं जो भारत में दो प्रधानमंत्री चाहते हैं, क्या भारत में दो प्रधानमंत्री होने चाहिए?
  • अपने राजनीतिक फायदे के लिए घुसपैठियों को बचाकर दीदी ने माटी के साथ भी विश्वासघात किया है।