उधार के 600 रुपए नहीं देने पर रेल्वे स्टेशन पर ही मार डाला

सूरत. शहर में शुक्रवार को दिन दहाड़े दो लोगों की हत्या कर दी गई। पहली वारदात सूरत रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर चार पर हुई। यहां सबके सामने आरोपी ने 600 रुपए के लिए ही अपने दोस्त की जान ले ली। आरोपी ने पहले अपने दोस्त को पीटा। जब वह घायल होकर गिर पड़ा तो उसका गला काट दिया। शाम को पुलिस ने उसे स्टेशन के पास से ही गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने अपना गुनाह कबूल कर लिया।

चाकू के वार से उतारा मौत के घाट
दूसरी वारदात शहर के कतारगाम में हुई, जहां एक आरोपी ने दुकान में घुसकर दर्जी का काम करने वाले को चाकू मारकर मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने बताया कि मृतक का आरोपी की पत्नी के साथ कई महीने से अवैध संबंध था। इस बात का पता चलते ही उसने दुकान में घुसकर दिन दहाड़े उसकी हत्या कर दी। आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। शहर के विभिन्न क्षेत्रों में इस साल 5 मार्च से 5 अप्रैल तक शहर में इस तरह से 10 लोगों की हत्याएं हो चुकी हैं।

शाम को पकड़ा गया आरोपी
सूरत जीआरपी के पीआई कनु चौधरी ने बताया कि रेलवे स्टेशन के पास से ही आरोपी को देर शाम पकड़ लिया गया। उसने गुनाह कबूल करते हुए बताया कि 600 रुपए की उधारी को लेकर झगड़ा हुआ था। 2017 में मृतक दीपक तिवारी के खिलाफ आरपीएफ ने चोरी का मामला दर्ज किया था।

एक क्षेत्र में हो चुकी हैं 10 हत्याएं 
सूरत रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर चार पर सुबह 11.45 बजे कालू पाल और दीपक तिवारी के बीच 600 रुपए को लेकर विवाद हुआ। दोनों दोस्त थे। दीपक ने कालू से पैसे उधार लिए थे। सूरत आरपीएफ प्रभारी ने बताया कि प्लेट फॉर्म नंबर 4 के उत्तरी छोर पर दीपक राजकिशोर तिवारी उर्फ तिजोरी और राजू रमेश पाल उर्फ कालू के बीच झगड़ा हुआ। कालू ने दीपक के सीने और सिर पर लोहे के रॉड से हमला कर दिया। उसके बाद उसने धारदार हथियार से गला काट गया। दीपक की मौके पर ही मौत हो गई। जीआरपी ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।