छापों में 281 करोड़ के बेहिसाबी कैश रैकेट का पता चला, 230 करोड़ के बेनामी लेनदेन का भी खुलासा

राहुल गुप्ता 

नई दिल्ली/भोपाल. मध्यप्रदेश में आयकर विभाग की छापे की कार्रवाई में 281 करोड़ रु. के बेहिसाबी कैश रैकेट का पता चला है। सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस (सीबीडीटी) ने बताया कि राजनीति, व्यापार और सरकारी सेवाओं से जुड़े लोगों के जरिए यह रकम इकट्ठा की गई थी। सीबीडीटी के मुताबिक, कैश का एक हिस्सा हवाला के जरिए दिल्ली स्थित एक बड़ी राजनीतिक पार्टी के मुख्यालय में भी ट्रांसफर किया गया। इसमें 20 करोड़ रु. की वह रकम भी शामिल है, जिसे हाल ही में पार्टी के एक वरिष्ठ पदाधिकारी के तुगलक रोड स्थित आवास से पार्टी मुख्यालय में भेजा गया था। दिल्ली के आयकर निदेशालय की टीम दो दिन से मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ से जुड़े लोगों के ठिकानों पर छापे की कार्रवाई कर रही थी। हालांकि, सोमवार को सीबीडीटी की तरफ से जारी बयान में किसी नेता विशेष के नाम का जिक्र नहीं किया गया।

सीबीडीटी के खुलासे

  • सीबीडीटी ने बताया कि 14.6 करोड़ रु. का बेहिसाबी कैश, 252 शराब की बोतलें, हथियार और बाघ की खालें भी जब्त की गई हैं।
  • “एक वरिष्ठ पदाधिकारी के करीबी रिश्तेदार के समूह के दिल्ली स्थित ठिकानों पर छापों के दौरान कई सबूत मिले। इनमें एक कैशबुक भी शामिल है, जिसमें 230 करोड़ के बेनामी लेनदेन का जिक्र है।”
  • सीबीडीटी के मुताबिक, कैशबुक के अलावा 242 करोड़ रु. की रकम के फर्जी बिलों के जरिए हेरफेर और टैक्स हैवेन कहे जाने वाले देशों में 80 कंपनियों की मौजूदगी के सबूत भी मिले हैं।
  • दिल्ली के पॉश इलाकों में कुछ बेनामी संपत्तियों का भी खुलासा हुआ है।
  • रविवार सुबह 3 बजे से शुरू हुए छापे
    मध्य प्रदेश में आयकर विभाग की कार्रवाई सीधे दिल्ली से बुलाई गई सीआरपीएफ टीम की सुरक्षा में रविवार तड़के 3 बजे शुरू की गई। इसमें 500 अफसर शामिल थे। इंदौर और भोपाल में कमलनाथ के निजी सचिव प्रवीण कक्कड़, कक्कड़ के करीबी प्रतीक जोशी और अश्विन शर्मा के ठिकानों पर यह कार्रवाई की गई। भोपाल में अश्विन शर्मा के घर छापे के दौरान मध्यप्रदेश पुलिस और सीआरपीएफ के बीच टकराव की स्थिति बन गई। सीआरपीएफ का कहना था कि मध्यप्रदेश पुलिस हमें काम नहीं करने दे रही। सोमवार को भी प्रतीक जोशी और अश्विन शर्मा के भोपाल स्थित घरों पर छापेमारी की गई।

    कक्कड़ की पत्नी बेटे को बैंक और दफ्तर लेकर गई टीम
    बैंक से जुड़ी जानकारियां हासिल करने के लिए आयकर टीम कक्कड़ की पत्नी साधना को लेकर आईडीबीआई बैंक पहुंची। दूसरी टीम उनके बेटे सलिल को कक्कड़ फैमिली से जुड़े कई दफ्तर लेकर गई। रविवार को कक्कड़ के इंदौर स्थित घर से 30 लाख की ज्वेलरी और दो लाख कैश मिला था। उनसे रातभर पूछताछ की गई। उनके सीए अनिल गर्ग ने कहा कि आईटी अफसरों ने मुझसे आईटीआर की कॉपी मांगी थीं, मैंने उन्हें पिछले सात साल में भरे गए आईटीआर की कॉपी उपलब्ध कराई।