CM कमलनाथ व बेटे नकुलनाथ ने भरा नामांकन, मंदिर में की पूजा अर्चना

छिंदवाड़ा: मुख्यमंत्री कमलनाथ व उनके बेटे नकुलनाथ ने आज 9 अप्रैल को छिदवाड़ा सीट से नामांकन दाखिल किया। उससे पहले दोनों शिकारपुरा मंदिर पहुंचे और पूजा की। मंदिर के पुजारी ने उन्हें जीत का आशीर्वाद दिया। पूजा के बाद सीएम कमलनाथ ने उपचुनाव और उनके बेटे नकुलनाथ ने लोकसभा चुनाव के लिए अपने नामांकन भरें। यह पहला मौका होगा जब पिता-पुत्र एक ही जगह से दो अलग-अलग चुनाव लड़ेंगें।

इसके बाद वे छिंदवाड़ा में एक जनसभा संबोधित कर रोड शो भी करेंगे। जिसके लिए जिला कांग्रेस द्वारा एक ऐतिहासिक नामांकन रैली का आयोजन किया गया है। बता दें कि लोकसभा चुनाव में नकुल नाथ के खिलाफ बीजेपी की ओर से नत्थननाथ कवरेती व छिंदवाड़ा विधानसभा उपचुनाव के लिए विवेक साहू नत्थन बीजेपी की तरफ से कमलनाथ को चुनौती देंगें। नत्थन शाह जुन्नारदेव सीट से बीजेपी के विधायक रह चुके हैं।

गौरतलब है कि पिता-पुत्र की जोड़ी पहली बार अपना चुनाव लड़ रही है। लोकसभा में 9 बार सांसद रह चुके कमलनाथ पहली बार विधानसभा उपचुनाव में उतर रहे हैं जबकि नकुलनाथ भी पहली बार ही चुनावी राजनीति में अपना भाग्य आजमाएंगे।

वहीं दोनों के मतदान के दौरान रोचक बात यह रहेगी कि कमलनाथ अपने बेटे नकुल को वोट दे पाएंगें, लेकिन नकुल अपने पिता कमलनाथ को वोट नहीं कर पाएंगें। जिसका कारण यह है कि कमलनाथ का निवास शिकारपुर छिंदवाड़ा शहर के समीप ही है, लेकिन तकनीकी रूप से वह सौंसर विधानसभा के दायरे में आता है। इसलिए कमलनाथ और उनका परिवार सौंसर विधानसभा क्षेत्र के मतदाता हैं, जबकि कमलनाथ स्वयं छिंदवाड़ा विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी हैं। इस तरह कमलनाथ स्वयं अपने लिए भी वोट नहीं दे पाएंगे और नकुल भी उन्हें वोट नहीं कर पाएंगे, लेकिन लोकसभा चुनाव के लिए कमलनाथ अपने पुत्र कांग्रेस प्रत्याशी नकुल को जरूर वोट दे सकेंगे। यह तो आने वाला वक्त ही बताएंगा कि पिता-पुत्र की यह जोड़ी अपना-अपना किला पर फतेह हासिल कर पाती है या नहीं फिलहाल दोनों ने चुनाव के लिए कमर कस ली है।