एसटीएफ ने बुकी समेत आठ सट्टेबाज पकड़े, विदेशी मुद्रा भी बरामद

श्रीमती विजय लक्ष्मी श्रीवास्तव

कानपुर,  आइपीएल में लाखों करोड़ों का सट्टा लगवाने वालों पर एसटीएफ ने शिकंजा कसा है। बुधवार को लखनऊ एसटीएफ की टीम ने कानपुर व वाराणसी में छापा मारकर सरगना समेत आठ सट्टेबाजों को पकड़ लिया। सट्टेबाजों के पास से लाखों रुपये, विदेशी मुद्रा, मोबाइल फोन व लैपटॉप समेत काफी सामान भी बरामद किया है। सट्टेबाजों से जुड़े साथियों की तलाश शुरू कर दी है।
कानपुर में पकड़ा गया मास्टर माइंड
एसटीएफ लखनऊ की टीम ने सटीक सूचना के आधार पर नौबस्ता में कई जगह छापा मारा। यहां से आइपीएल सट्टेबाजी के मास्टर माइंड सरगना जितेन्द्र उर्फ जीतू को गिरफ्तार कर लिया। उसके साथ सट्टेबाजी के धंधे से जुड़े आशीष, सुमित, मोहित व हिमांशु को पकड़ लिया। इन सभी के पास से टीम ने 2.75 लाख रुपए, पांच लैपटॉप, तीन स्मार्ट टीवी, वाईफाई राऊटर, तीस मोबाइल फोन, 375 दिरम समेत काफी सामान बरामद किया है।
छापेमारी की भनक लगते ही उनका साथी अजय सिंह भाग निकला। उसकी फाच्र्यूनर कार व जीतू की मर्सडीज कार भी कब्जे में ली है। वहीं वाराणसी शहर में छापा मारकर सट्टेबाजों के गिरोह से जुड़े अशोक सिंह, सुनील पाल व विक्की खान को गिरफ्तार किया है। उनके पास से 27.75 लाख रुपये व कई मोबाइल फोन बरामद किये हैं।

कई राज्यों से बुकी जीतू के जुड़े हैं तार 
एसटीएफ के मुताबिक सट्टेबाजी के मास्टर माइंड जीतू के मध्यम से बीस की संख्या मे बुकी ऑनलाइन बेटिंग करते हैं। जीतू के तार रायपुर, अजमेर, जयपुर, मुंबई, दिल्ली व दुबई में बैठे बुकी से जुड़े हैं। इसके अलावा कानपुर, लखनऊ, फतेहपुर, वाराणसी, प्रयागराज आदि जगह बदल बदल कर सट्टेबाजी का कारोबार कर रहे थे। पकड़े गए किसी भी सट्टेबाज का कोई अन्य आय का स्रोत नहीं है। जीतू दुबई मे रहकर कई वर्षों तक ऑनलाइन ट्रेडिंग का काम करता रहा। बेटिंग के कारोबार से जीतू ने मुंबई, कानपुर, लखनऊ, फतेहपुर करोड़ों के मकान खरीदकर निवेश किया है।