आय से अधिक संपत्ति के मामले में आज मुलायम सिंह पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव और प्रतीक यादव के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को सुनवाई करेगा। हालांकि कोर्ट में दाखिल हलफनामे में मुलायम सिंह ने दावा किया है कि सीबीआई की प्राथमिक जांच में उन्हें क्लीन चिट मिल चुकी है। फिलहाल जिस रिपोर्ट का मुलायम ने हवाला दिया है, सीबीआई उसे पहले ही फर्जी बताकर 2009 में एफआईआर दर्ज करा चुकी है। पिछली सुनवाई में विश्वनाथ चतुर्वेदी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई से स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने को कहा था।

मुलायम ने उच्चतम न्यायालय में आरोप लगाया है कि कांग्रेस का एक कार्यकर्ता उनके और परिवार के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के एक पुराने मामले को उठाने की कोशिश कर रहा है जिससे मौजूदा आम चुनाव के दौरान उनकी छवि धूमिल की जा सके। यादव ने 25 मार्च को जारी हुए एक नोटिस के जवाब में दायर हलफनामे में कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ता विश्वनाथ चतुर्वेदी ने बाह्य कारणों से नई याचिका दायर की और उनका मकसद 2019 के आम चुनावों की पूर्व संध्या पर दुर्भावनापूर्ण कारणों’’ से राजनीतिक बढ़त हासिल करने की है।

चतुर्वेदी ने अपनी याचिका में 3 सपा नेताओं- यादव और उनके 2 बेटों, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश और प्रतीक के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में सीबीआई को यह निर्देश देने की मांग की थी कि वह या तो उच्चतम न्यायालय या फिर मजिस्ट्रेट अदालत के समक्ष स्थिति रिपोर्ट दायर करे। हलफनामे में दावा किया गया कि याचिका प्रमाणिक नहीं है और बाह्य कारणों से दायर की गई है और इसका उद्देश्य यादव और उनके परिवार की छवि को धूमिल करना है खासतौर पर तब जब याचिकाकर्ता यह जानता है कि प्रतिवादी आगामी आम चुनावों में भाग लेगा।