राजस्थान में पहले चरण में सात महिलाएं लड़ रही है चुनाव

जयपुरः राजस्थान में पहले चरण में उन्नतीस अप्रैल को होने वाले लोकसभा चुनाव की तेरह सीटों पर केवल सात महिलाएं चुनाव लड़ रही है। तेरह सीटों पर कुल 115 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं जिनमें सात महिला प्रत्याशी शामिल हैं। इनमें भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) एवं एपीओआई प्रत्याशी के रुप में एक-एक तथा तीन महिलाएं निर्दलीय चुनाव लड़ रही है, जिनमें चार अनुसूचित जाति (एससी) तथा तीन सामान्य वर्ग की महिलाएं सम्मिलित है।

इनमें चित्तौड़गढ से सीपीआई उम्मीदवार राधा भण्डारी को छोड़कर शेष सभी महिलाएं पहली बार लोकसभा चुनाव मैदान में उतरी है। पहली बार चुनाव लड़ने वाली महिलाओं में राजसमंद से भाजपा प्रत्याशी पूर्व विधायक दीया कुमारी, जोधपुर से बसपा की मुकुल चौधरी (एससी) एवं निर्दलीय तसलीम, जालोर से एपीओआई की विजय श्री (एससी), अजमेर से निर्दलीय सोनिया रेगर (एससी) तथा टोंक-सवाईमाधोपुर से निर्दलीय प्रेमलता बंशीवाल (एससी) शामिल है। मुकुल चौधरी पूर्व पुलिस अधिकारी पंकज चौधरी की पत्नी है। पंकज चौधरी ने भी बाड़मेर-जैसलमेर से चुनाव लड़ने के लिए पर्चा भरा था लेकिन खारिज हो गया।

राधा भण्डारी वर्ष 1999 के लोकसभा चुनाव से चित्तौड़गढ सीट पर लगातार सीपीआई प्रत्याशी के रुप में चुनाव लड़ती आई हैं। हालांकि उन्हें जीत नसीब नहीं हुई लेकिन वह हमेशा तीसरे स्थान पर रही। उन्होंने वर्ष 1999 में 18 हजार 512, वर्ष 2004 में 32 हजार 114, वर्ष 2009 में 24 हजार 653 तथा गत लोकसभा चुनाव में 21 हजार 593 मत हासिल किए।

इनमें पूर्व विधायक एवं पूर्व जयपुर राजघराने की राजकुमारी दीया कुमारी ने वर्ष 2013 में सवाईमाधोपुर से भाजपा प्रत्याशी के रुप में विधानसभा चुनाव जीता था। गत विधानसभा चुनाव में उन्हें दुबारा मौका नहीं मिला , लेकिन भाजपा ने उन्हें राजसमंद से लोकसभा प्रत्याशी बना दिया।  इन तेरह सीटों में जोधपुर संसदीय क्षेत्र से दो महिलाएं चुनाव लड़ रही है जबकि पाली, बाड़मेर, उदयपुर (सुरक्षित), बांसवाड़ा (सुरक्षित), भीलवाड़ा, कोटा और झालावाड़ सात सीटें ऐसी है जहां एक भी महिला चुनाव मैदान में नहीं है।