बेटे को टिकट दिए जाने के बाद केंद्रीय मंत्री बीरेंद्र सिंह ने की इस्तीफे की पेशकश

नई दिल्लीः लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा ने रविवार को 20 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया। इन उम्मीदवारों में केंद्रीय मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह के बेटे बृजेंद्र सिंह का भी नाम शामिल है। बृजेंद्र सिंह को भाजपा ने हिसार से टिकट दिया है। बृजेंद्र को टिकट मिलने के बाद बीरेंद्र सिंह इस्तीफे की पेशकश की है। उन्होंने परिवारवाद के खिलाफ स्टेटमेंट देने के लिए ऐसा फैसला किया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जब भाजपा वंशवादी शासन के खिलाफ है इसलिए मैंने ऐसा सही समझा कि जब बेटे को टिकट मिले तो मुझे राज्यसभा और मंत्री पद से इस्तीफा दे दिना चाहिए।
उन्होंने कहा कि मैंने इस बाबत पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को लिख दिया है, अब पार्टी जो फैसला करेगी वो मुझे मंजूर होगा। मैं इस्तीफा देने को तैयार हूं। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह हरियाणा के एक प्रमुख जाट नेता हैं। वे 1977, 1982, 1994, 1996 और 2005 में उचाना से विधायक रह चुके हैं और तीन बार प्रदेश सरकार में मंत्री भी रहे हैं। 2014 में वे कांग्रेस से 42 साल का नाता तोड़कर वे भाजपा में शामिल हुए थे। इस दौरान उन्होंने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया था। वहीं 2016 में भाजपा ने उनको फिर से राज्यसभा भेजा था, उनको इस्पात मंत्रालय का पदभार सौंपा गया था।
हरियाणा की रोहतक सीट पर अरविंद शर्मा को टिकट दिया गया है। हरियाणा के अलावा भाजपा ने मध्य प्रदेश और राजस्थान में 6 उम्मीदवारों के नाम घोषित किए हैं। मध्य प्रदेश की खजुराहो सीट पर विष्णु दत्त शर्मा, रतलाम सीट पर जीएस डामोर और धार सीट पर छत्तर सिंह दरबार को टिकट दिया गया है। राजस्थान की दौसा सीट पर जसकौर मीणा को उतारा गया है। वहीं पश्चिम बंगाल की उलुबेरिया पूर्व सीट पर हो रहे उपचुनाव के लिए प्रत्यूष कुमार मोंडल को टिकट दिया गया है।