राजेन्द्र भगत 

जम्मू,। शहर की सड़कों पर अगले माह से दौड़ने वाली नॉन एसी 30 सीटर 10 इलेक्ट्रिक बसों के पहुंच जाने के बाद अब अगले सप्ताह 10 अन्य बसें भी जम्मू पहुंच जाएंगी। अप्रैल माह के अंत तक श्रीनगर शहर के लिए 20 बसों को ट्रेलर के माध्यम से कश्मीर पहुंचाने का काम शुरू होने के उपरांत यात्रियों को शोरगुल और प्रदूषण युक्त बसें में सफर करने से निजात मिल पाएगी।

बढ़ते प्रदूषण पर लगाम लगाने के उद्देश्य से टाटा मोटर्स द्वारा निर्मित कुल 40 इलेक्ट्रिक बस जम्मू और श्रीनगर शहर की सड़कों पर दौड़ेंगी। पहले चरण के लिए 20 बसें जम्मू-कश्मीर स्टेट रोड ट्रांसपोर्ट कारपोरेशन के बेड़े में शामिल की जाएंगी। फिलहाल 10 बसें पांच दिन पहले ही जम्मू में पहुंच गई हैं जबकि 10 अन्य बसें अगले सप्ताह पहुंच जाएंगी।जम्मू में आज से शुरू होने वाले इलेक्ट्रिक बस के ट्रॉयल स्थगित किए जाने से टाटा माेटर्स के सीनियर मैनेजर संजय चौधरी काफी नराश दिखे। उन्होंने बताया कि वह विशेष रूप से चंडीगढ़ से जम्मू पहुंचे थे लेकिन चुनाव आचार संहिता के कारण ट्रॉयल नहीं हो पाए हैं। उन्होंने बताया कि अगले सप्ताह जम्मू में अन्य 10 बसें भी पहुंच जाएंगी। ये बसें ट्रेलर में लादकर कर्नाटक के धरवाड़ प्लांट से निकल चुकी हैं। इसके उपरांत कश्मीर के लिए 20 इलेक्ट्रिक बसें पहुंचाना चुनौतीपूर्ण कार्य रहेगा। पहाड़ी मार्ग होने के कारण ट्रेलर के माध्यम से ही बसों को कश्मीर पहुंचाया जा सकता है। बसें जम्मू से श्रीनगर के लिए सड़क पर दौड़ाकर भी ले जाई जा सकती थी लेकिन रास्ते में कहीं भी चार्जिंग की सुविधा न होने के कारण ट्रेलर ही एकमात्र विकल्प है। टाटा मोटर्स द्वारा अब तक लखनऊ के लिए 25 बसें, इंदौर और पश्चिम बंगाल के लिए 40-40 बसें भी उपलब्ध करवा दी गई हैं जो शानदार तरीके से सड़कों पर बिना किसी शोरगुल और प्रदूषण के दौड़ते हुए यात्रियों में आकर्षण का केन्द्र बनी हुई हैं।यात्रियाें की सुरक्षा सर्वोपरि है इसी को मद्देनजर रखते हुए बस की सबसे बड़ी खूबी यह है कि इसमें यात्रियों के प्रवेश और निकासी के लिए दो दरवाजे हैं। इनका पूरी तरह से नियंत्रण ड्राइवर के हाथों में होगा। ड्राइवर के सीट के साथ लगे बटन को दबाने के उपरांत ही इन्हें खोलना संभव होगा। ऐसे में बाहर से कोई भी इन दरवाजों को खोल नहीं पाएगा। रेल हैड स्थित एसआरटीसी के यार्ड में इलेक्ट्रिक बसों की चार्जिंग के लिए दो फाॅस्ट चार्जिंग प्वाइंट बनाए गए हैं। दो चार्जिंग प्वाइंट नगरोटा में भी लगाए गए हैं। दो चार्जिंग प्वाइंट में एक साथ चार बस दो से अढ़ाई घंटों के भीतर फुल चार्ज हो जाने पर 150 किलोमीटर दौड़ सकेंगी।