मुठभेड़ में ढाई करोड़ की अष्टधातु के शंख के साथ पांच गिरफ्तार

चंदौली : पुलिस को रविवार को बड़ी सफलता हासिल हुई। पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम ने पुरातात्विक वस्तुओं की तस्करी करने वाले गिरोह के पांच सदस्यों को हल्की मुठभेड़ के बाद ढाई करोड़ की अष्टधातु के शंख के साथ गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से पिस्टल, तमंचा, कारतूस, मोबाइल व बोलेरो बरामद हुए। तस्कर आंध्र प्रदेश के मंदिर से चोरी शंख को वाराणसी में बेचने की साजिश रच रहे थे। एसपी संतोष कुमार सिंह ने सोमवार को पुलिस लाइन में मामले का खुलासा किया। बताया कि गिरफ्तार आरोपित पिछले काफी दिनों से पुरातात्विक महत्व की कीमती वस्तुओं की तस्करी में संलिप्त हैं। देश के प्रसिद्ध मंदिरों से चोरी की गई कीमती मूर्तियां व अन्य सामग्री को दूसरे हिस्सों में अच्छे दामों पर बेचते हैं। पीडीडीयू नगर कोतवाली पुलिस को रविवार को मुखबिर से सूचना मिली कि तस्कर पटनवा तिराहे के समीप अष्टधातु की कीमती वस्तु को वाराणसी ले जाकर बेचने की साजिश रच रहे हैं। पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम ने मौके पर पहुंचकर घेरेबंदी कर ली। पुलिस को देख तस्कर पिस्टल से फायरिग करते हुए भागने की कोशिश करने लगे। लेकिन पुलिसकर्मियों ने मुस्तैदी दिखाते हुए सैयदराजा थाना के बरठी कमरौर निवासी गुरफान खां, गाजीपुर जनपद के जमानियां थाना के रायपुर गांव निवासी प्रदीप सिंह, विकास सिंह, संदीप सिंह और मीरजापुर के अदलहाट थाना के धरवासपुर निवासी सुनील कुमार को धर-दबोचा। तलाशी लेने पर उनके पास से अष्टधातु के शंख, पिस्टल, दो तमंचा, चार कारतूस व आठ मोबाइल सेट व बोलेरो बरामद की गई। आरोपितों ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि अष्टधातु के शंख आंध्र प्रदेश के किसी मंदिर से चोरी किए गए थे। एक व्यक्ति द्वारा वाराणसी में बेचने के लिए दिया गया था। एसपी ने पुलिस टीम को 15,000 रुपये इनाम देने की घोषणा की।