कोर्ट पहुंची दुल्हन बोली- फेरे लेने हैं, हत्या के आरोपी दूल्हे को जमानत दे दो

आकंक्षा सिंह 

देवास|. देवास जिला कोर्ट में सोमवार को रोचक वाक्या हुआ। एक दुल्हन हत्या के आरोपी पति की जमानत के लिए कोर्ट पहुंच गई। दुल्हन पक्ष ने तर्क दिया कि हल्दी-मेहंदी लगने पर शादी बाद ही धुलती है, विवाह नहीं हुआ तो अपशगुन होगा। कोर्ट ने यह दलील नहीं मानी और जमानत अर्जी खारिज कर दी। दुल्हन व परिजन को बैरंग लौटना पड़ा। दरअसल रंगपंचमी पर देवास के संजय नगर निवासी राधेश्याम सोलंकी के साथ पानी में रंग घोलने की बात पर मारपीट की गई थी।सिर में माेगरी लगने से उपचार के दौरान इंदौर के एमवायएच में मौत हो गई थी। इस मामले में पुलिस ने 7 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। छह आरोपियों को गिरफ्तार कर रविवार को न्यायालय में पेश किया था, जहां से जेल भेजने के आदेश हुए। छह में से एक आरोपी दीपक एरेवाल की सोमवार को मक्सी के पास तराना में शादी होने वाली थी। उसके जेल में हाेने के कारण सुबह 9.30 बजे दुल्हन सपना पिता महेश चौहान करीब 150 रिश्तेदारों के साथ देवास जिला कोर्ट में पहुंच गई। हाथ-पैर में मेहंदी और हल्दी लगी दुल्हन कोर्ट में खड़ी हुई, जिसके वकील ने दुल्हन की शादी की गुहार लगाई। लंच के बाद फिर से सुनवाई हुई, लेकिन न्यायाधीश ने हत्या का आरोप होने पर आरोपी दूल्हे दीपक को जमानत देने से मना कर दिया गया।