जयपुर, सहित कई जगहों पर आंधी-बारिश के साथ गिरे ओले, झालावाड़ में चार बच्चोंं की मौत

मीनाक्षी पारीक 

जयपुर। राज्य में मंगलवार को जयपुर, टोंक, गंगानगर व कोटा सहित कई स्थानों पर तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। बारिश से जहां गर्मी से राहत मिली वहीं किसानों के लिए यह परेशानी लेकर आई। झालावाड़ में दो अलग-अलग घटनाओ में चार बच्चों की मौत हो गई। बकानी के गणेशपुरा गांव में दो सगी बहनों की बारिश के दौरान मकान ढहने से तथा जावर थाना क्षेत्र के समरोल गांव में बिजली गिरने से एक ही परिवार के दो बच्चों की मौत हो गई।

हनुमानगढ़ में बीती देर रात एक घर पर बिजली गिरने से वहां सो रहे एक व्यक्ति की मौत हो गई। दौसा में लालसोट के एक गांव में कटी फसल पर बिजली गिरने से आग लग गई जिससे करीब एक लाख की फसल राख हो गई। इससे पहले सुबह कोटा के इटावा में आधा घंटा मूसलाधार बारिश हुई। क्षेत्र में सुबह से ही अंधेरा छाया रहा, खेतों में बारिश से गेहूं की कटी फसलें नुकसान पहुंचा। झालावाड़ में बिजली गिरने से दौ बच्चों की मौत की सूचना है। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

माउंटआबू में भी सुबह बादल छाए रहे। बूंदाबादी होने से तापमान में गिरावट आई। यहां अधिकतम तापमान, 31.0 डिग्री सेल्सियस तो न्यूनतम तापमान हुआ 15.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज। दौसा के कई स्थानों पर बरसात हुई। बांदीकुई में भी हल्की बारिश हुई। सवाईमाधोपुर के कई स्थानों पर आधा घंटे बारिश हुई। उपखंड मुख्यालय बौंली पर 15 मिनट तेज बारिश हुई। इससे खेतों में रखी पकी फसल को लेकर किसान मायूस हो गए। कटी फसल-चारा।

हनुमानगढ़ में बीती देर रात एक घर पर बिजली गिरने से वहां सो रहे एक व्यक्ति की मौत हो गई। दौसा में लालसोट के एक गांव में कटी फसल पर बिजली गिरने से आग लग गई जिससे करीब एक लाख की फसल राख हो गई। इससे पहले सुबह कोटा के इटावा में आधा घंटा मूसलाधार बारिश हुई। क्षेत्र में सुबह से ही अंधेरा छाया रहा, खेतों में बारिश से गेहूं की कटी फसलें नुकसान पहुंचा। झालावाड़ में बिजली गिरने से दौ बच्चों की मौत की सूचना है। हालांकि अभी इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

माउंटआबू में भी सुबह बादल छाए रहे। बूंदाबादी होने से तापमान में गिरावट आई। यहां अधिकतम तापमान, 31.0 डिग्री सेल्सियस तो न्यूनतम तापमान हुआ 15.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज। दौसा के कई स्थानों पर बरसात हुई। बांदीकुई में भी हल्की बारिश हुई। सवाईमाधोपुर के कई स्थानों पर आधा घंटे बारिश हुई। उपखंड मुख्यालय बौंली पर 15 मिनट तेज बारिश हुई। इससे खेतों में रखी पकी फसल को लेकर किसान मायूस हो गए। कटी फसल-चारा।

बिजली गिरने से बहनोई की मौत
हनुमानगढ़ 33 एसएसडब्ल्यू रोही करनीसर में बीती रात बिजली गिरने से पक्की छत गिर गई। इससे घर की छत गिर गई जिससे वहां सो रहे बहनोई की मौत हो गई तथा साला घायल हो गया। मृतक चना सिंह (60) पुत्र सुरायन सिंह निवासी मड़मालू जिला मुक्तसर पंजाब और साला सुरजीत (55) पुत्र करतार सिंह रायसिख निवासी मडमालू घायल हो ग,। दोनों गेंहूं कटाई के लिए कम्बाइन चलाते है और हनुमान बादडा के खेत मे गेंहूं कटाई के लिए आए थे। सदर पुलिस थाना में मामला दर्ज किया गया।

तापमान गिरा

राज्य में सोमवार को कई स्थानों पर आए आंधी-बारिश से अधिकतर स्थानों पर अधिकतम व न्यूनतम तापमान में गिरावट आई है। राज्य में बीती रात डबोक सहित कुछ स्थानों को छोड़कर रविवार रात के मुकाबले बाकी स्थानों पर तापमान में छह डिग्री तक की गिरावट आई है। कोटा में बीती रात पारा छह डिग्री की गिरावट के साथ 19.4 डिग्री रहा। वहीं जयपुर में बीती रात धूल भरी हवा चलने से पारा गिरा तथा सुबह तेज हवा के साथ बादल छाने से तापमान में गिरावट आई। सुबह सात बजे जहां तापमान 36 से 38 डिग्री तक पहुंच रहा था वह लुढ़ककर 32 डिग्री पर आ गया।

माउंटआबू में तापमान करीब तीन डिग्री गिरकर 15.4 डिग्री रहा। गंगानगर में पारा करीब चार डिग्री की गिरावट के साथ 18.09 डिग्री पर पहुंच गया। हालांकि डबोक में पारा करीब दो डिग्री की बढ़त के साथ 23.00 डिग्री रहा। कोटा में तापमान करीब छह डिग्री की गिरावट के साथ 19.04 डिग्री पर रहा।

गेहूं व चने की फसल को भारी नुकसान

रायसिंहनगर में सोमवार शाम को बॉर्डर एरिया में कई गांवों में ओले गिरने से गेहूं व चना की फसल को भारी नुकसान पहुंचा। मंगलवार को भी दोपहर में फिर आकाश में छाई काली घटाओं ने गांव 22 पीटीडी व उसके आस-पास के गांवों में ओले बरसाए जिससे फसलों को भारी नुकसान हुआ। ओले करीब तीन से चार सेमी व्यास के आकार के गिरे। ओलों के गिरने से खराब हुई फसलों का प्रशासन ने जहां जायजा लिया है। वहीं विधायक बलवीर लूथरा भी बॉर्डर के गांवों में पहुंचे तथा खेतों में खराब हुई फसलों को जायजा लिया।

उन्होंने कहा कि प्रशासन से किसानों को मुआवजा दिलाए जाने की मांग की जाएगी। गांव 22 पीटीडी के नंदलाल ने बताया कि दोपहर करीब पौने दो बजे हल्की बरसात के साथ ओले गिरने शुरु हो गए। करीब 15 मिनट तक ओले गिरे। जिससे गेहूं की फसलों की पक्की बालियां टूट कर गिर गई तथा गेहूं खराब हो गई। वहीं चना की कटी फसल की मंडलियां भी खराब हो गई।

गंगनहर प्रोजेक्ट के अध्यक्ष समीर सिंह बराड़ ने बताया कि सोमवार शाम को ओले गिरने से गांव 40 पीएस, 41 पीएस, 43 पीएस में गेहूं की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है। तहसीलदार पन्नालाल मीणा ने भी फसलों को पहुंचे नुकसान का निरीक्षण किया है। किसानों को मुआवजा दिए जाने की मांग को लेकर उन्होंने प्रशासन को भी अवगत करवाया है। 40 पीएस, 38 पीएस, बरुवाला, 75 एनपी, 43 पीएस में फसलें शतप्रतिशत खराब हो चुकी है।