प्रदेश के कई इलाकों में मौसम की तबाही, घरों की दीवारें गिरीं-छतें उड़ीं, 9 लाेगाें की मौत

मीनाक्षी पारीक 

जयपुर. प्रदेश में मंगलवार काे अचानक पलटे माैसम ने जमकर कहर बरपाया। अधिकांश शहराें में अांधी चली, बारिश हुई और ओले गिरे। पेड़ उखड़ गए। खंभे गिर गए। कच्चे मकानाें की छतें उड़ गई, दीवारें गिर गई, टैंट-तंबू उड़ गए। बिजली घंटाें गुल रही। हादसाें में 9 लाेगाें की माैत हाे गई, जबकि 20 घायल हाे गए। मंडियों एवं खेत-खलिहानों में पड़ी फसलों को नुकसान पहुंचा। अधिकतम तापमान में 10 डिग्री तक की गिरावट आई।

जयपुर में अंधड़ से 20 जगहों पर पेड़ उखड़ गए और 8 जगहों पर दीवार व छज्जे गिर गए। प्रदेशभर में हवा की रफ्तार 50 से 60 किमी प्रतिघंटा रही। उदयपुर में 26.5 मिमी, चित्तौड़गढ़ और राजसमंद में 20 मिमी, काेटा 15.8 मिमी तथा जयपुर 5.7 मिमी बारिश दर्ज की गई।

सबसे ज्यादा 4 माैतें झालावाड़ में, जमवारामगढ़ में एक की मौत :
झालावाड़ के गणेशपुरा में कच्चा मकान ढहा, 2 बहनाें की मौत। समरोल में बिजली गिरने से दो बच्चों की माैत। उदयपुर केे सैलाना व राजसमंद के परावल में बिजली गिरने से 1-1 मौत। अलवर में टैंट गिरने से दुल्हन के चचेरे भाई की माैत, 14 घायल। हनुमानगढ़ के करनीसर में मकान ढहा, वृद्ध की जान गई। जयपुर के जमवारामगढ़ में दीवार ढहने से मीठालाल (36) की माैत।

अरब सागर व बंगाल की खाड़ी की हवाएं कारण :
मौसम विभाग के डायरेक्टर शिव गणेश के मुताबिक ऊपरी वायुमंडल में गर्म हवाओं की मौजूदगी थी। इस बीच अरब सागर व बंगाल की खाड़ी से उठी नम हवाअाें ने वायुमंडल में अस्थिरता पैदा की अाैर माैसम में अचानक बदलाव अाया। हवाओं की नमी के कारण बरसात हुई है।

अगले 24 घंटे :

माैसम विभाग के अनुसार बुधवार को भी राज्य में कई जगहों पर आंधी व बारिश की संभावना है। हवाओं की रफ्तार 50 किमी प्रति घंटा तक रह सकती है। अधिकतम तापमान 32 डिग्री तक रह सकता है।