रोहित शेखर की मौत के बाद मां ने लगाए गंभीर आरोप, जल्द करेंगी खुलासा

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री रह चुके स्वर्गीय एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की मौत के बाद उनकी मां उज्जवला देवी ने गंभीर आरोप लगाए हैं। उज्जवला का आरोप है कि उनके बेटे को कोई न्यूरो का समस्या नहीं थी लेकिन वह अवसाद में थे। उसे अवसाद देने वाले कई लोग है। यहीं कारण है कि उनके रोहित की मौत हो गई। समय आने पर इस बात को सबके सामने लाऊंगी। हालांकि उन्होंने मना किया कि उनके बेटे की सामान्य मौत हुई है। लेकिन उनके बेटे को अवसाद देने के पीछे कई लोग थे।

शव का पोस्टमार्टम कराकर परिजनों को सौंप दिया गया
दूसरी तरफ बुधवार एम्स मोर्चरी में रोहित के शव का पोस्टमार्टम करा उनके परिजनों को सौंप दिया गया। डीसीपी विजय कुमार ने बताया कि पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। बुधवार को छुट्टी होने के कारण अभी रिपोर्ट सामने नहीं आ सकी है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही आगे की कार्रवाई हो सकती है। हालांकि उनके परिजनों ने भी अभी तक किसी के खिलाफ कुछ लिखित या मौखिक शिकायत नहीं की है। रोहित की मां उज्जवला ने बताया कि उनका बेटा बिल्कुल ठीक था। वह उनके साथ हल्द्वानी भी गया था और वहां पर वोट देने के बाद कांग्रेस के लिए वोट भी मांगा था। लेकिन ऐसा क्या हो गया कि दिल्ली आने के बाद अचानक उसकी मौत हो गई।

डाक्टरों ने कर दिया रोहित को मृत घोषित 
उन्होंने कहा कि अभी वह ज्यादा बयान देने लायक नहीं है। लेकिन समय आने पर बहुत कुछ कहना है। उन्होंने कहा कि मुझे कुछ समय दे। समय आने पर बहुत बाते बतानी हैं। उज्जवला ने बताया कि कौन-कौन लोग उसे अवसाद में ले गए और किस कारण अवसाद में था, जल्द ही इस बात का खुलासा करेंगी। उनका बेटा रोहित बहुत ही होनहार था। ज्ञात हो कि रोहित शेखर तिवारी अपने परिवार के साथ डिफेंस कालोनी स्थित सी-329 में रहते थे। परिवार में मां उज्जवला और पत्नी अपूर्वा शुक्ला है। बताया जा रहा है कि घटना से पहले रोहित की मां और पत्नी दोनों खुद मैक्स अस्पताल में अपने उपचार के लिए गई थी। तब उन्हें घर से नौकरों ने फोन कर बताया कि रोहित शेखर की तबियत खराब है। वह लोग घर पहुंची और करीब मंगलवार शाम करीब 4 बजकर 41 मिनट पर एबुलेंस से रोहित को मैक्स अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भेजा गया,जहां पर डाक्टरों ने रोहित को मृत घोषित कर दिया।