1 घंटे में 3 जनाें से ली रिश्वत, चाैथे से लेते समय पकड़े गए एडीएम नाहटा

मीनाक्षी पारीक 

जोधपुर. भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने गुरुवार दाेपहर अारएएस अफसर विजय सिंह नाहटा को पत्थरगढ़ी के अादेश देने के बदले किसान से 10 हजार रु. की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। उनके पास अाैर जोधपुर के एडीएम सिटी (द्वितीय) के साथ एडीएम सिटी (तृतीय) का अतिरिक्त जिम्मा भी है।

चाैंकाने वाली बात यह है कि एसीबी की इस कार्रवाई से पहले वे एक घंटे में तीन जनाें से 500 से लेकर 10,800 रु. की रिश्वत ले चुके थे, जबकि चाैथे से राशि वसूलते समय वे पकड़े गए। हैरान करने वाली यह भी है कि 2001 बैच के अफसर नाहटा जब बीकानेर में म्यूनिसिपल काउंसिल में कमिश्नर थे, तब भी घूस लेते पकड़े गए थे। इसी मामले में 20 जून 2005 से 10 दिसंबर 2008 तक करीब 41 महीने वे निलंबित भी रहे थे।

अब वे पीपाड़ शहर के चिरढाणी के पप्पूदास वैष्णव से घूस लेते पकड़े गए। जोधपुर कलेक्ट्रेट परिसर में किसी आरएएस अधिकारी के रिश्वत लेते पकड़े जाने का यह पहला मामला है। एसीबी की टीम ने तकरीबन साढ़े चार घंटे तक एडीएम सिटी (तृतीय) के चैम्बर में ही पूरी कार्रवाई की।

डीआईजी (एसीबी) सवाईसिंह गोदारा ने बताया कि मूलत: पीपाड़ शहर के चिरढाणी के पप्पूदास वैष्णव (44) ने लिखित शिकायत दी थी कि गांव में खसरा संख्या 865 में उनका खेत है। इसकी मेढ़ पर खेत पड़ोसी चिमनाराम जाट ने 10 से 15 फीट तक अतिक्रमण कर लिया। विभिन्न स्तर पर शिकायत करने के बाद आखिरकार 6 फरवरी को प्रशासन की टीम ने पुलिस की मौजूदगी में सीमांकन किया। इसमें 10 फीट तक अतिक्रमण की पुष्टि हुई। इसके बाद परिवादी अपनी जमीन पर पत्थरगढ़ी कराने व संबंधित शाखा से तहसीलदार के नाम आदेश जारी कराने के लिए कार्यवाहक एडीएम सिटी (तृतीय) विजयसिंह नाहटा के ऑफिस के चक्कर लगा रहा था। पत्थरगढ़ी के आदेश देने के बदले नाहटा ने 10 हजार रुपए की रिश्वत मांगी। एसीबी ने शिकायत का सत्यापन किया अाैर गुरुवार दाेपहर करीब 3 बजे रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया।

विजय सिंह नाहटा के पास जोधपुर के एडीएम सिटी (द्वितीय) के साथ एडीएम सिटी (तृतीय) का अतिरिक्त प्रभार है। कार्यालय के बाहर बाेर्ड पर लिखा है कि काेई घूस मांगें ताे एमडीएम सिटी तृतीय से शिकायत करें। नाहटा इसी कार्यालय में घूस लेते पकड़े गए।

एक घंटे में चार से वसूली
पहली घूस : एक व्यक्ति से नाहटा ने कुछ नकदी वसूली।
दूसरी : इसके बाद एक अन्य व्यक्ति से 500 रुपए लिए।
तीसरी : आंगणवा निवासी प्रेमाराम सुथार से प्लाॅट की माप कराने के बदले घूस मांगी। उसकी जेब में रखे सभी 10,800 रुपए नाहटा ने ले लिए।
चौथी : पप्पूलाल से 10 हजार की घूस लेते पकड़े गए।

जैसा एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक नरेंद्र चौधरी ने बताया। चौधरी ने कहा- इन चार लोगों में से पप्पूराम की शिकायत मिली हुई थी। बाकी तीन में से सिर्फ प्रेमाराम ने ही लिखित शिकायत दी है। चारों से नाहटा ने घूस की जो राशि ली थी, वह बरामद कर ली है।