दहेज में तीन लाख रुपये नहीं दिए तो बोला तीन बार तलाक

अनुज कुमार 

देवबंद (सहारनपुर) : तीन तलाक को असंवैधानिक करार दिए जाने के बावजूद मुस्लिम समुदाय में एक साथ तीन तलाक देने के मामले रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं। एक नया मामला फतवों की नगरी देवबंद में पेश आया है। अतिरिक्त दहेज के रूप में तीन लाख रुपये की मांग पूरी न करने पर शौहर ने अपनी बीवी को तलाक.तलाक.तलाक. कह डाला।

नगर की रोशन कालोनी निवासी पीड़ि़ता नजमा अपनी तीन महीने की मासूम बेटी को गोद में लेकर शुक्रवार को देवबंद कोतवाली पहुंची और पुलिस से इंसाफ की गुहार लगाई। इस दौरान नजमा के पिता मोहम्मद आकिल ने पुलिस को कार्रवाई के संबंध में तहरीर सौंपी। तहरीर में आकिल ने कहा कि दो साल पहले उसकी बेटी नजमा की शादी मोहल्ला खानकाह निवासी सलीम से हुई थी। जिससे उसके तीन महीने की एक बेटी भी है। आरोप लगाया कि शादी के बाद से ही बेटी का ससुराल में शारीरिक व मानसिक उत्पीड़न हो रहा था। उसका दामाद अतिरिक्त दहेज के रूप में तीन लाख रुपये की मांग कर रहा था। असमर्थता जताने पर शुक्रवार को नजमा के साथ उसके पति ने मारपीट की और तीन तलाक दे दी। इतना ही नहीं मिट्टी का तेल डाल कर जान से मारने की कोशिश भी की। किसी तरह उसकी बेटी ने घर से बाहर भाग कर अपनी जान बचाई। प्रभारी निरीक्षक कुलदीप सिंह ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है। साहब.साढ़े तीन लाख में बेच दिया था मकानपीड़ित पिता आकिल ने बताया कि उसने अपनी बेटी की शादी के लिए अपनी हैसियत से भी ज्यादा बढ़कर दान दहेज किया था। जिसमें उसे उधार कर्ज भी लेना पड़ा था। उस कर्ज को उतारने के लिए कुछ दिन पूर्व उसने अपना घर साढ़े तीन लाख रुपये में बेच दिया था। इन रुपयों पर ही उसकी दामाद की नजरें लगी हुई थी।