राजस्थान की राजनीति के 4 एपिक सेंटर, जो हिला सकते हैं सियासी जमीन

मीनाक्षी पारीक 

राजस्थान में लोकसभा चुनाव तो 25 सीटों पर हो रहे हैं। लेकिन इनमें से ये चार सीटें (जोधपुर, बारां-झालावाड़, दौसा और नागौर) इस चुनाव का एपिक सेंटर बन चुकी हैं। यहां के नतीजे प्रदेश की सियासत के गर्भ में भारी हलचल मचाने वाले होंगे। भले दिल्ली का तख्त तय करने में इन 4 सीटों की भागीदारी बहुत ज्यादा न हो लेकिन इनमें हार-जीत के अपने मायने हैं। जोधपुर में जहां सीएम अशोक गहलोत की प्रतिष्ठा का सवाल है। वहीं, बारां-झालावाड़ में वसुंधरा के सामने अपना किला बचाने की चुनौती है। कह सकते हैं कि सीटें सिर्फ चार हैं, लेकिन राज्य की सियासत का पूरा अंकगणित इन्हीं पर टिका है।