नो-नेगेटिव लाइफ: ये हैं बीएमसी के प्रोफेसर: साइकिल चलाते हैं ताकि दूसरों को दे सकें स्वस्थ रहने का संदेश

शिरीष सिलकारी 

सागर| बीएमसी के दो प्रोफेसर दूसरों को स्वस्थ रहने का संदेश देने के लिए रोजाना साइकिल से कॉलेज पहुंचते हैं। एक है फाॅर्माकोलॉजी विभाग प्रो. डॉ. दिनेश कुमार जैन और दूसरे पैथालॉजी विभाग के प्रोफेसर डॉ. बीके शर्मा।

कब से चला रहे साइकिल: डॉ. जैन छात्र जीवन से ही कॉलेज जाने के लिए साइकिल का ही इस्तेमाल कर रहे हैं। डॉ. शर्मा पांच सालों से कॉलेज साइकिल से जा रहे हैं। नतीजा ये दोनों ही डॉक्टर बीमारियों और तनाव से कोसों दूर हैं, वहीं अब इनसे प्रेरणा लेकर अन्य डॉक्टर व स्टूडेंट्स भी कॉलेज जाने के लिए साइकिल का इस्तेमाल करने लगे हैं।

डॉक्टरों से अनुसार साइकिलिंग के फायदे

साइकिल चलाना एक एरोबिक व्यायाम है। लगातार साइकिल चलाने से घुटने और जोड़ों के दर्द से परेशान लोगों को आराम पहुंचाता है।

डायबिटीज, कोलेस्ट्रॉल और दिल की बीमारियां का खतरा कम होता है।

इससे आपके शरीर का भार पैर व घुटनों पर नहीं पड़ता।

शरीर में ब्लड सेल्स और स्किन में ऑक्सीजन की पूर्ति होती है। जिससे त्वचा ज्यादा अच्छी और चमकदार रहती है।

शरीर में गलत खानपान से बनने वाली एक्सट्रा कैलोरी बर्न करने का यह सबसे बेहतर तरीका है, इससे मोटापा भी घटता है।