कंप्यूटर बाबा के खिलाफ दर्ज हो सकती है एफआईआर, दिग्विजय सिंह के खाते में जुड़ेंगे हठयोग के साढ़े चार लाख रुपए

राहुल गुप्ता 

भोपाल. कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के समर्थन में हठयोग करने पर कम्प्यूटर बाबा को जिला निर्वाचन अधिकारी ने आचार संहिता का उल्लंघन मानते हुए कंप्यूटर बाबा को नोटिस जारी किया है> कार्यक्रम का पूरा खर्च दिग्विजय सिंह के खाते में जोड़ने का फैसला किया गया है। प्रेक्षक द्वारा करवाई गई वीडियोग्राफी देखकर कार्यक्रम का खर्च साढ़े चार लाख स्र्पए आंका गया है। कम्युटर बाबा पर एफआईआर भी दर्ज हो सकती है।

दरअसल, कोहेफिजा इलाके में स्थित न्यू सैफिया कॉलेज ग्राउंड पर पिछले दिनों कंप्यूटर बाबा ने साधु-संतों के साथ अनुष्ठान किया था। इस कार्यक्रम में दिग्विजय सिंह भी पहुंचे थे। इस कार्यक्रम की धार्मिक कार्यक्रम बताकर संत समागम की अनुमति ली गई थी, लेकिन दिग्विजय के पहुंचने के बाद यह कार्यक्रम राजनीतिक हो गया।  अतिरिक्त रिटर्निंग ऑफिसर केके रावत ने कम्युटर बाबा को नोटिस जारी कर 24 घंटे में जवाब मांगा है।  भाजपा ने इस मामले की शिकायत चुनाव आयोग से की थी। बताया जा रहा है कि आयोजन के बाद से कम्पयूटर बाबा भोपाल में नहीं हैं।

सात हजार साधु-संतों के आने का किया था दावा: बीते सप्ताह कम्प्यूटर बाबा ने दावा किया था कि भोपाल में भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर की हार होगी। वे कांग्रेस प्रत्याशी की जीत के लिए 7 हजार साधु-संतों के साथ हठयोग और तांत्रिक अनुष्ठान करेंगे। 7 मई को उन्होंने न्यू सैफिया कॉलेज ग्राउंड पर दिग्विजय सिंह की मौजूदगी में अनुष्ठान किया था। 8 मई को कम्प्यूटर बाबा ने पुराने भोपाल में दिग्विजय के समर्थन में रोड शो भी किया था।

भाजपा ने की थी शिकायत

भाजपा ने निर्वाचन आयोग से की गई शिकायत में आरोप लगाया कि कम्प्यूटर बाबा ने अनुष्ठान में साधुओं को 11-11 हजार रुपए दिए हैं। इस आयोजन पर करीब 50 लाख रुपए खर्च हुए हैं। इसे कांग्रेस प्रत्याशी के चुनाव खर्च में जोड़ा जाए। भाजपा का आरोप था कि कम्प्यूटर बाबा ने इस आयोजन की अनुमति आयोग और कलेक्टर से नहीं ली थी।

भाजपा ने कहा- धार्मिक भावनाएं आहत हुईं

भाजपा ने कहा कि कम्प्यूटर बाबा धार्मिक भावनाएं भड़काने का काम कर रहे हैं। उन्होंने प्रत्याशी विशेष के समर्थन में तांत्रिक अनुष्ठान, हठयोग और धूनी रमाई। इससे हिन्दू मतदाताओं की धार्मिक भावनाएं आहत हुईं।

तीन बिंदुओं पर होगी जांच

भाजपा की शिकायत पर जिला निर्वाचन अधिकारी/ कलेक्टर डॉ. सुदाम पी. खाड़े ने मामले की जांच एआरओ भोपाल उत्तर केके रावत को सौंपी है। इस मामले में तीन बिंदुओं पर जांच की जा रही है।
पहला- आयोजन की अनुमति किसने मांगी? अगर अनुमति मांगी तो जारी की गई या नहीं?
दूसरा- कार्यक्रम के लिए दिग्विजय सिंह ने कम्प्यूटर बाबा समेत अन्य साधु संतों को बुलाया या नहीं?
तीसरा-कम्प्यूटर बाबा किस पार्टी या प्रत्याशी के लिए प्रचार कर रहे हैं? उनके कार्यक्रम का कितना खर्च आ रहा है? इसकी वीडियो रिकाॅर्डिंग के साथ रिपोर्ट पेश करें।