बजरी का डंपर छोड़ने के लिए बीस हजार रुपए लेते एसआई गिरफ्तार, पकड़े जाने से पहले हवा में रुपए उड़ा किया बचने का प्रयास

गर्वित श्रीवास्तव 

जोधपुर. बजरी खनन पर लगी रोक से पुलिस जमकर चांदी कूट रही है। बजरी परिवाहन करने पर अवैद वसूली करने वाली पुलिस अब बजरी के डंपर छोड़ने की एवज में रिश्वत की मोटी रकम मांग रही है। शहर में शुक्रवार को भष्ट्राचार निरोधक ब्यूरो(एसीबी) ने बासनी पुलिस थाने में बजरी का डंपर छोड़ने की एवज में बीस हजार रुपए की रिश्वत लेते एसआई गजेन्द्र सिंह चारण को गिरफ्तार कर लिया। एसीबी की टीम को देखते ही गजेन्द्र सिंह थाने की छत पर चढ़ गया और रिश्वत की राशि को हवा में उड़ा दिया, लेकिन एसीबी की टीम ने सारी राशि बरामद कर ली।

एसीबी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक दुर्गसिंह ने बताया कि लूणी तहसील के धिंगाणा गांव निवासी श्रवणराम विश्नोई ने शिकायत दर्ज कराई की बासनी पुलिस ने उसका बजरी का डंपर पकड़ रखा है। इसे छोड़ने की एवज में एसआई गजेन्द्र सिंह चारण 45 हजार रुपए की मांग कर रहा है।

शिकायत की पुष्टि होने पर आज शाम एसीबी की टीम ने श्रवणराम को बीस हजार रुपए की राशि लेकर बासनी पुलिस थाने भेजा। रिश्वत की राशि उसे थमाते ही एसीबी की टीम ने वहां पहुंच गई। एसीबी की टीम को देखते ही गजेन्द्र सिंह चारण थाने की छत पर चढ़ गया और रिश्वत के बीस हजार रुपए हवा में उछाल दिए। लेकिन पहले से सतर्क एसीबी की टीम ने सारे रुपए बरामद कर गजेन्द्र सिंह को गिरफ्तार कर लिया। उससे पूछताछ की जा रही है।