अखिलेश ने कांग्रेस पर भी लगाया आरोप, कहा- गठबंधन के खिलाफ फैला रही है अफवाहें

लखनऊः सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज कांग्रेस पर सपाबसपा गठबंधन के खिलाफ अफवाहें फैलाने का आरोप लगाते हुए शनिवार को दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं से ऐसी साजिशों से बचने को कहा हैं। अखिलेश ने कहा कि हाल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी प्रतापगढ़ आये थे और सपाबसपा में भ्रम फैलाने के लिए जानबूझकर कहा कि सपा दूसरे दलों की मदद कर रही है और वह बसपा के साथ नहीं है। इसी तरह की अफवाह बाकी दल भी फैला रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पहले तो प्रधानमंत्री ने कहा था, लेकिन अब सुनने में आ रहा है कि कांग्रेस भी इसी तरह की अफवाह फैला रही है। मैं कहना चाहता हूं कि सपा-बसपा का गठबंधन मजबूत है। मेरी दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं से अपील है कि इस तरह की अफवाहों से दूर रहें। हमें सपा कार्यकर्ताओं और बसपा नेतृत्व तथा कार्यकर्ताओं पर पूरा भरोसा है कि वे ऐसी अफवाहों पर ध्यान नहीं देंगे।

अखिलेश ने आरोप लगाया कि अफवाहें फैलाने में कांग्रेस और भाजपा एक ही जैसे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा के लोग तो रेड कार्ड के जरिये चुनाव जीतना चाहते हैं। अधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं कि सपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ जितने रेड कार्ड जारी करना चाहते हो, जारी करो। जहां कहीं भी चुनाव हो रहा है, वहां सपा और बसपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ रेड कार्ड जारी कर रहे हैं। ऐसा करके उन्हें मतदान से रोका जा रहा है।

उन्हाेंने कहा कि हमने चुनाव आयोग से शिकायत की है कि क्या सिर्फ सपा-बसपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ ही रेड कार्ड जारी होगा। क्या भाजपा बिल्कुल पाक साफ है? उसमें कोई ऐसा नहीं है जिसकी आपराधिक छवि हो। उन्होंने आरोप लगाया कि कौशाम्बी के चुनाव के दौरान प्रतापगढ़ में सबसे ज्यादा अन्याय सपा और बसपा कार्यकर्ताओं पर हुआ है। उन पर झूठे मुकदमे दर्ज किये गये। जिन लोगों ने कार्यक्रम करने के लिये जमीन दी थी, उन पर भी झूठे मुकदमे दर्ज हुए हैं।

कांग्रेस और भाजपा अन्याय करने, अफवाह फैलाने, साजिश रचने और झूठे मुकदमे दर्ज कराने के मामले में एक ही जैसे हैं। सपा अध्यक्ष ने चुनाव प्रचार में भाजपा नेताओं द्वारा प्रयोग की जाने वाली भाषा का जिक्र करते हुए कहा कि चुनाव में ऐसे अल्फाज का इस्तेमाल नहीं होना चाहिये। हमारे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कहते हैं कि दूसरे लोग गुंडों के सरताज हैं। वहीं, लखनऊ में चुपचाप बिहार के सबसे बड़े अपराधी राजन तिवारी को भाजपा में शामिल कर लिया गया।