एयर स्ट्राइक के पीछे की मोदी ने बताई कहानी तो ओवैसी बोले- आप गजब के एक्सपर्ट!

एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. एक इंटरव्यू का जिक्र करते हुए ओवैसी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी आप तो गजब के एक्सपर्ट हैं, सर एक अनुरोध है कि अपने नाम से चौकीदारी हटा दीजिए और एयर चीफ मार्शल और प्रधान लगा लीजिए. ओवैसी ने जैसे ही पीएम मोदी को घेरा बीजेपी ने अपना ट्वीट हटा लिया.

असल में, गुजरात बीजेपी ने प्रधानमंत्री मोदी का इंटरव्यू में एक टिप्पणी पर ट्वीट किया, जिसमें कहा गया था कि एयर स्ट्राइक के दिन मौसम ठीक नहीं था. उस दिन विशेषज्ञों का मानना था कि स्ट्राइक दूसरे दिन की जाए. लेकिन मैंने उन्हें सलाह दी कि वास्तव में बादल हमारी मदद करेंगे और हमारे लड़ाकू विमान रडार की नजरों में नहीं आएंगे.

इसी ट्वीट को रीट्वीट करते हुए ओवैसी ने लिखा कि, ‘सर सर प्रधानमंत्री आप तो गजब के एक्सपर्ट हैं. सर आपसे से अनुरोध है कि अपने नाम से चौकीदार हटा दीजिए और एयरचीफ मार्शल और प्रधान…क्या टॉनिक पीते हैं आप…कि आपकी बातों में रोजगार, अर्थव्यवस्था, औद्योगिक विकास और कृषि संकट के अलावा हर बात का फार्मूला होता है. जारी रखें मित्रों.’ इसके बाद गुजरात बीजेपी ने अपना ट्वीट डीलिट कर दिया.

bjp_051119114450.jpg

इससे पहले पीएम मोदी के 1984 में हुए सिख विरोधी दंगों को ‘भयानक जनसंहार’ बताने पर ओवैसी ने प्रधानमंत्री को साल 2002 के गुजरात दंगों की याद दिलाई. हैदराबाद लोकसभा से सांसद ओवैसी ने मोदी से पूछा कि वह गुजरात दंगों पर क्या कहेंगे? ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘श्रीमान, तो मुख्यमंत्री के तौर पर आपके कार्यकाल के दौरान 2002 में हुई तबाही कहां है और आप लोगों को बचाने की अपनी संवैधानिक शपथ को बचाने में नाकाम रहे थे.’

ओवैसी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सलाहकार सैम पित्रोदा के सिख विरोधी दंगों से संबंधित बयान पर मोदी द्वारा उनकी निंदा किए जाने पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे थे. इस दौरान उन्होंने पित्रोदा के बयान की निंदा करने की जगह उल्टा प्रधानमंत्री मोदी से ही सवाल पूछ लिए.

मोदी सरकार पर हमला करते हुए कांग्रेस नेता सैम पित्रोदा ने कहा था कि आप तो लगातार झूठ बोलते ही रहते हैं, पहले हमारे पर झूठ बोला कल आप पर बोला. 1984 का मुद्दा क्या है, आप बात तो करिए. आपने पांच साल में क्या किया, ’84 में हुआ तो हुआ.. आपने क्या किया.

पित्रोदा के इस बयान पर सभी सियासत गरमा गई थी. पित्रोदा के बयान पर पीएम मोदी ने कहा कि ‘कांग्रेस के बड़े नेता सैम पित्रोदा ने साफ कहा कि 1984 का दंगा हुआ तो हुआ. कांग्रेस के लिए जीवन का कोई मूल्य नहीं है. कांग्रेस के समय में हजारों लोगों का कत्लेआम हुआ है. दिल्ली में 2800 से ज्यादा लोगों की हत्या कर दी गई लेकिन कांग्रेस पर कोई फर्क ही नहीं पड़ता.’

इसके बाद सैम पित्रोदा ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा था कि मेरी हिंदी खराब है, मैं ‘जो हुआ वो बुरा हुआ’ कहना चाहता था. बुरा हुआ को मैं दिमाग में ट्रांसलेट नहीं कर पाया. मेरे बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया.