दैनिक राशिफल- जानिए कैसा रहेगा आपका आज का दिन

मेष : सूर्य के प्रवेश से मेष राशि के जातकों पर गहरा प्रभाव पड़ेगा। उन्हें ऊर्जा से भर देगा, भूमि लाभ, धन लाभ, हर्ष, मंगल कार्य हो और शत्रुओं का नाश हो।
उपाय : पिता की सेहत का ध्यान रखें, पीपल वृक्ष को जल चढ़ाएं।

वृष : वाणी पर संयम रखें, मित्रों एवं ससुराल पक्ष से रिश्ते कटु होंगे। धन, सुख का नाश, जिद्दी लोग धोखे में स्वार्थ सिद्धि करेंगे।
उपाय : मित्र वेश में शत्रु से सावधान रहें, पीपल वृक्ष की पूजा करें, सतनाजा व पंचमेवा चढ़ाएं।

मिथुन : जन्म राशि से प्रथम भाव में सूर्य होने के कारण परिश्रम, व्यय, क्रोध, उदर पीड़ा, प्रवास होगा परन्तु कार्य क्षेत्र में आपका कद बढ़ सकता है।
उपाय : शनिवार के दिन जरूरतमंद मरीजों को दवा एवं फल आदि बांटें।

कर्क : यदि आपकी जन्म पत्री में कर्क राशि है तो सूर्य आपकी राशि से बारहवें भाव में जाएगा। हानि, क्लेश, रोग, संताप अपनों से धोखा, षड्यंत्र, सिरदर्द, बुखार से गुजरना होगा।
उपाय : पार्क या मंदिर परिसर में श्वेतार्क का पौधा लगाएं।

सिंह : सूर्य इस राशि से ग्यारहवें भाव में प्रवेश करेगा। धन लाभ मान-सम्मान में वृद्धि, प्रसन्नतादायक समाचार, प्रमोशन, व्यापार में वृद्धि होगी। नए प्यार में लाभ, समाज में ख्याति, यश-वैभव का डंका बजेगा।
उपाय : अपनी नग्न आंखों से सूर्यदेव के दर्शन कर पिता को फल-वस्त्र मिठाई भेंट कर आशीर्वाद लें।

कन्या : सूर्य इस राशि से दशम भाव में होने से विजय प्राप्ति, व्यवसाय, कार्यक्षेत्र राजनीति में आपकी तरक्की होगी। माता की सेहत में गिरावट।
उपाय : प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें तथा 9 बंदरों को गुड़-चने केले खिलाएं।

तुला : क्लेश, उद्योग धंधों में कमजोरी, प्रियजनों का विछोह, कार्यों में असफलता, वृष राशि वालों से सावधान, लम्बी यात्रा, प्रतिदिन सूर्य मंत्र का जाप करें।
उपाय : पिता तुल्य व्यक्ति की तन-मन-धन से सेवा करें। वृद्धाश्रम का निर्माण करें।

वृश्चिक : राजपक्ष से भय, मानसिक चिंता, स्वजनों से नाराजगी, अपनी गुप्त बातें सांझा न करें।
उपाय : भगवान शिव की उपासना एवं वृद्ध, ब्राह्मण आदि की सेवा करें।

धनु : जीवनसाथी आप पर हावी होगा, नया रिश्ता भी बन सकता है। क्लेश, मानसिक संताप, पेट में पीड़ा।
उपाय : बैल को गेहूं खिलाएं। अनाथ को सहारा दें, किसी गरीब की लड़की के कन्यादान एवं विवाह का आयोजन करें।

मकर : कार्यों में सफलता, रोग-मुक्ति, शत्रु पर विजय साहस की वृद्धि, कार्य क्षेत्र एवं राजनीति में शुभ समाचार मिलने के प्रबल योग।
उपाय : सूर्यदेव को प्रतिदिन जल चढ़ाएं। वृद्धाश्रम एवं अनाथालय में चार रविवार खीर-पूरी, मालपुए, शाही पनीर का भंडारा लगाएं।

कुंभ : स्वभाव में क्रोध, स्वास्थ्य कमजोर, माता-पिता को कष्ट, मन में संताप, संतान की चिंता, उच्च शिक्षा, प्रतियोगी परीक्षा में सफलता।
उपाय : रविवार-सोमवार को मालपुए-खीर का भोग पितरों के नाम से लगाएं।

मीन : अचल सम्पत्ति की चिंता, सुख की हानि। उच्च योग में विघ्न। पड़ोसी एवं जेल बंधन से बचें।
उपाय : शनि मंदिर में सरसों तेल, इमरती, कच्चा दूध चढ़ाएं। माता-पिता एवं गुरु के पांव दबाएं, वस्त्र एवं स्वरुचि भोज का आयोजन कर लंगर लगाएं।