श्रीमती विजय लक्ष्मी श्रीवास्तव

सरवनखेणा  (कानपुर देहात )19 जुलाई ।समाजवादी पार्टी पूर्व युवजनसभा के जिलाउपाधयक्ष मंत्री प्रतिनिधि सुमित सचान ने एक मुलाकात मे कहा कि भाजपा सरकार के रहते जनपद कानपुर देहात मे तीन हजार रुपए पाने वाला प्राईवेट शिक्षक समय से अच्छी शिक्षा दे रहा पर 65 हजार रुपए पाने वाला सरकारी शिक्षक घर बैठे वेतन लेने की धारणा बना चुका जिससे प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालयों मे शिक्षा का स्तर शून्य हो गया है ।जिससे गरीब परिवार के बच्चों के भविष्य के साथ शिक्षा के नाम पर खिलवाड़ किया जा रहा है ।
             कस्बा गजनेर मे हुई एक मुलाकात मे युवा सपा नेता एवं पूर्व मंत्री प्रतिनिधि सुमित सचान ने प्रदेश मे सत्ता रूढ भाजपा सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब से प्रदेश मे भाजपा की सरकार बनी तब से जनपद कानपुर देहात मे शिक्षा विभाग के अधिकारी इतने निरंकुश हो गए है ।कि पैंसठ हजार रुपये पाने के बाद भी स्कूल नही जाना चाहते है ।और कभी कभार गए भी तो पढ़ाना नही चाहते है ।यह स्थिति प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों की है ।जब कि तीन से चार हजार रुपये पाने वाला प्राईवेट शिक्षक समय से पहले पहुंच कर बच्चो को तन मन से पढाने का कार्य कर रहा है ।
         श्री सचान ने कहा कि यह सिर्फ इस लिए होता है कि जनपद देहात के इन सरकारी स्कूलों मे गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाले लोगो के बच्चे पढते है ।वही यदि गरीब अमीर और मास्टर व अधिकारियों के बच्चे एक साथ बैठकर पढने लगे तो यही शिक्षक यही अधिकारी शिक्षा पर जोर देने से नही चूकेंगे पर इस सरकार मे सबसे अधिक यदि कोई विभाग यदि निरंकुश हुआ है तो वह शिक्षा विभाग है ।श्री सचान ने उदाहरण देते हुए बताया कि जनपद देहात के विकास खण्ड सरवनखेणा क्षेत्र के त्रिवेदिनपुर गांव के प्राथमिक विद्यालय व कौसम गांव के पूर्व माध्यमिक विद्यालय सहित सरवनखेणा क्षेत्र के कई स्कूलों मे शिक्षा के नाम पर बच्चो के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है ।
श्री सचान ने कहा कि जनपद देहात मुख्यालय से लेकर खण्ड शिक्षा कार्यालय मे नियुक्त अधिकारियों को यह सब कुछ नही दिखाई दे रहा है ।जिसमे खास बात यह है कि महिला अधिकारी होने के कारण सायद वह अपना आफिस नही छोडना चाहती है और स्कूलों मे मिड डे मील बन रहा है य नही शिक्षक स्कूल जा रहे है कि नही इससे सायद उन्हे कोई लेना-देना नही है ।उन्होंने कहा कि आज प्राथमिक शिक्षा पूरी तरह से चरमरा गई है पर सरकार भी अपनी आंखो मे पट्टी बांध कर गरीब बच्चो के साथ हो रहे अन्याय पर पर्दा डालने की कोशिश कर रही है ।जिससे यह भाजपा सरकार गरीब विरोधी सरकार साबित हो रही है ।उन्होंने कहा कि समय रहते यदि जनपद देहात मे शिक्षा विभाग के अधिकारियो पर शिकंजा न कसा गया तो दावे के साथ कहते है कि गरीब का बेटा नही पढ पाएगा और किसान का बेटा किसान मजदूर का बेटा मजदूरी करने लायक ही रहेगा और यही सायद इस भाजपा सरकार की मंशा है ।इस अवसर पर श्री सचान के साथ डॉ. अभितेन्द्र सचान, स्वर्णिम सचान, पंकज गौतम, रियाज़ खान कई कार्यकर्ता रहे ।