सोनभद्र मामलाः हवाई अड्डे पर रोके गए TMC सांसद, भारी पुलिस बल तैनात

वाराणसीः उत्तर प्रदेश के सोनभद्र हत्याकांड मामले में सियासत गरमाती जा रही है। हत्याकांड में मारे गये 10 लोगों के परिजनों से मिलने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के चार सांसदों का एक दल सोनभद्र जा रहा था। लेकिन वाराणसी जिला प्रशासन ने हवाईअड्डे पर ही चारों सांसदों को रोक दिया है। टीएमसी के राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन के नेतृत्व में चारों नेता वाराणसी पहुंचे हैं। इसमें सुनील मंडल, अबीर रंजन बिस्वास और उमा सरेन है। प्रशासन ने चारों को वहीं पर रोक दिया है।

हवाईअड्डे से सड़क मार्ग से टीएमसी सांसदों का प्रतिनिधिमंडल सोनभद्र में मृतकों के परिजनों और गंभीर रूप से घायलों से मुलाकात करना चाह रहा था। पूरी टीम के सुबह हवाईअड्डे पर पहुंचते ही सभी नेताओं को वहीं पर रोक कर वीआइपी लाउंस भेज दिया गया। टीएमसी नेताओं के वाराणसी पहुंचने और सोनभद्र जाने की जानकारी होने पर प्रशासन ने आनन-फानन में बाबतपुर स्थित हवाईअड्डे पर टीएमसी के सांसदों को रोकने के लिए भारी मात्रा में पुलिस बल सुबह ही तैनात कर दिया। नेताओं को हवाईअड्डा परिसर में ही रोकने और वहीं से उन्हें वापस करने के लिए प्रशासनिक गहमागहमी के बीच हवाईअड्डे पर यात्रियों में भी अचानक भारी फोर्स को लेकर काफी सुगबुगाहट बनी रही।

सांसदों के आने के बाद जिलाधिकारी, एसएसपी, एडीएम प्रशासन, एसपीआरए सहित पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी भी पहुंच गए और टीएमसी की टीम को रोक कर वीआइपी लाउंज में भेज दिया गया। इससे पहले मिर्जापुर के आयुक्त आनंद कुमार सिंह ने मिर्जापुर और भदोही जिले के डीएम को पत्र लिखकर सोनभद्र जिले में किसी भी विशिष्ट व्यक्ति, राजनीतिक और गैर-राजनीतिक व्यक्ति के प्रवेश के लिए अपने जिले में मार्ग रोकने का निर्देश दिया था।

शुक्रवार की शाम को मिर्जापुर आयुक्त की ओर से जारी पत्र में कहा गया है कि सोनभद्र जिले की तहसील घोरावल के उभ्भा गांव में 17 जुलाई को भूमि पर कब्जे को लेकर हुए गोलीकांड में 10 लोगों की मौत हो गई थी और 28 लोग घायल हो गए थे। इसके बाद सोनभद्र जिला अधिकारी ने जिले में धारा 144 लागू कर दी है।