शीला दीक्षित का आज निगमबोधघाट पर होगा अंतिम संस्कार

नई द‍िल्ली। Ex Delhi CM Sheila Dikshit Passes Away: द‍िल्ली कांग्रेस की अध्‍यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित (Sheila Dikshit) का 81 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। उनका अंतिम संस्कार रविवार को दोपहर 2:30 निगम बोध घाट पर होगा। उनके पार्थिव शरीर को एम्बुलेंस से निजामुद्दीन स्थित उनके आवास पर ले जाया गया। यहां उन्हें श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगा है। इस दौरान पीएम मोदी, सोनिया गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत तमाम नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचे। उनके बेटे संदीप दीक्षित ने कहा कि उन्हें उनकी मां की हमेशा याद आएगी। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें दिल्ली के विकास के लिए हमेशा याद रखा जाएगा।

पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रविवार सुबह 11 बजे तक उनके आवास पर रखा जाएगा। इसके बाद दोपहर 12 बजे उनका पार्थिव शरीर कांग्रेस दफ्तर ले जाया जाएगा। यहां कांग्रेस नेता सहित अन्य लोग उन्हें श्रद्धांजलि देंगे। दिल्ली सरकार ने उनके निधन पर दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। साथ ही राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार करने का फैसला किया है।

Sheila Dikshit Passes Away Latest Updates

-पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा ‘राजनीति में प्रवेश करने से पहले से ही मैं उन्हें (शीला दीक्षित) जानता था, यह राष्ट्र के लिए एक बड़ी क्षति है, हमने एक योग्य प्रशासक और एक अच्छा नेता खो दिया है।

– पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिंह ने शीला दीक्षित को उनके आवास पर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी।

-पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा ‘यह देश और कांग्रेस पार्टी के लिए बहुत बड़ी क्षति है। दिल्ली ने एक उत्कृष्ट नेता और प्रशासक खो दिया है, जिसने पूरे राज्य को बदल दिया है। देश और दिल्ली के परिवर्तन की दिशा में उनके योगदान को लंबे समय तक याद रखेगा।

-अभिनेत्री शर्मिला टैगोर ने दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के निज़ामुद्दीन स्थित उनके आवास पर पहुंचकर श्रद्धांजलि दी।

– पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी।

-पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी।

-रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा ‘शीला जी को हमारे राष्ट्र के सबसे अनुभवी राजनेताओं में गिना जाता है। उनका राजनीतिक जीवन बेदाग था, मैं उन्हें  श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

-रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शीला दीक्षित को उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी।

-दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा ‘शीला दीक्षित जी को लोग बहुत याद करेंगे, उन्होंने दिल्ली के लिए बहुत काम किया था। भले ही हम अलग-अलग पार्टियों से थे, जब भी मैं उनसे मिला, उन्होंने बहुत प्यार दिखाया। मैं भगवान से प्रार्थना करता हूं कि उनकी आत्मा को शांति और उनके परिवार को इस दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें।

-उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि शीला दीक्षित का रविवार को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा।

-दिग्गज भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कहा, ‘शीला दीक्षित के निधन की खबर सुनकर काफी दुख हुआ। गृह मंत्री के रूप में मेरे कार्यकाल के दौरान, शीला दिल्ली की मुख्यमंत्री थीं। हमने बहुत गर्मजोशी और सौहार्दपूर्ण तरीके से काम किए। एक सक्षम प्रशासक के तौर पर उनका दिल्ली के विकास में बहुत बड़ा योगदान था। उन्हें एक बेहतरीन इंसान के रूप में याद रखा जाएगा। उनके परिवार के सभी सदस्यों के प्रति मेरी संवेदना। भगवान उनकी आत्मा को शांति दें।’

-दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित ने कहा ‘मेरी मां का निधन हो गया, यह स्वाभाविक है कि मैं उन्हें याद करूंगा। मां को खोने का दर्द मिटाया नहीं जा सकता। जब भी लोग एक विकसित और बढ़ती दिल्ली की बात करेंगे, शीला जी का नाम याद किया जाएगा।

-दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शीला दीक्षित को उनके आवास पर पहुंच कर श्रद्धांजलि दी।

-भाजपा सांसद और दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को उनके आवास पर पहुंच कर श्रद्धांजलि अर्पित की

– लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा ‘शीला दीक्षित जी मां जैसी थीं, सामाजिक और राजनीतिक कार्यकर्ता के रूप में दिल्ली और देश के विकास के लिए उन्होंने काफी अहम योगदान दिया। उनके निधन पर पूरा देश दुखी है।

– पीएम मोदी ने शीला दीक्षित के आवास पर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि। बता दें उन्होंने इससे पहले ट्वीट कर कहा था कि शीला दीक्षित के मौत से काफी दुखी हूं। उन्होंने दिल्ली के विकास में बड़ा योगदान दिया था।

ANI

@ANI

 Delhi: Prime Minister Narendra Modi pays tribute to former Delhi Chief Minister Sheila Dikshit who passed away today, due to a cardiac arrest.

Embedded video

340 people are talking about this

-लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि अर्पित की

-कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी, जिनका आज दोपहर में हार्ट अटैक से निधन हो गया।

-सोनिया गांधी ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को उनके आवास पर पहुंच कर श्रद्धांजलि दी।

– रविवार दोपहर 12 बजे उनका पार्थिव शरीर कांग्रेस दफ्तर में रखा जाएगा। यहां कांग्रेस नेता सहित अन्य लोग उन्हें श्रद्धांजलि देंगे।

-भाजपा नेता विजय गोयल ने निजामुद्दीन में उनके आवास पर दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को श्रद्धांजलि दी।

-शीला सरकार में काम करने वाले वरिष्ठ नौकरशाह आइएएस केशव चंद्रा व एसएस यादव भी उनके आवास पर पहुंचे।

-दिल्ली सरकार ने शीला दीक्षित के निधन पर दो दिन का राजकीय शोक घोषित किया है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने इसकी जानकारी दी है।

-निजामुद्दीन ईस्ट स्थित आवास पर शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर पहुंच गया है। यहां कार्यकर्ताओं ने शीला दीक्षित अमर रहे के नारे लगाए।

-भाजपा सांसद और भाजपा दिल्ली अध्यक्ष, मनोज तिवारी ने कहा, ‘मैं हाल ही में उनसे मिला था, यह बहुत बड़ा झटका है। मुझे याद है कि कैसे उन्होंने एक मां की तरह मेरा स्वागत किया था। दिल्ली के उनकी याद आएगी। भगवान उनके परिवार और उनके करीबी लोगों को इस नुकसान को सहन करने की शक्ति दें।

-कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने बताया मुझे लगता है कि उनके पार्थिव शरीर को 1-1: 30 घंटे में उनके घर ले जाया जाएगा, फिर यह कल सुबह तय किया जाएगा कि कब इसे कांग्रेस मुख्यालय में ले जाया जाए, फिर इसे निगम बोध घाट ले जाया जाएगा।

-पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने कहा ‘श्रीमती शीला दीक्षित के आकस्मिक निधन की खबर सुनकर स्तब्ध हूं। उनकी मृत्यु में देश ने एक समर्पित कांग्रेस नेता को खो दिया। दिल्ली के लोग हमेशा सीएम के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान दिल्ली के विकास में उनके योगदान को याद करेंगे।

-प्रियंका गांधी ने कहा ‘शीला दीक्षित जी के निधन से मुझे गहरा दुख हुआ। उन्होंने दिल्ली और देश के लिए जो कुछ भी किया, लोग उसे हमेशा याद रखेंगे। वह पार्टी की एक बड़ी नेता थीं, पार्टी, देश, राजनीति और विशेष रूप से दिल्ली के लिए उनके योगदान को भुलाया नहीं जा सकता।

गौरतलब है कि सेहत खराब होने के बाद उन्हें एस्‍कॉर्ट अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। पेसमेकर के ठीक से काम न करने पर शनिवार सुबह पूर्व मुख्यमंत्री को दिल्ली के एस्कॉर्ट अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें आईसीयू में रखा गया था। बता दें कि करीब दस दिन के इलाज के बाद सोमवार को ही वह अस्पताल से वापस घर लौटी थीं।

शीला दीक्षित के नेतृत्व में ही कांग्रेस ने लगातार तीन पर दिल्ली में सरकार बनाई और वह साल 1998 से 2013 तक लगातार तीन बार दिल्ली की मुख्यमंत्री रहीं। दिल्ली के राजनीतिक इतिहास में वह अब तक की सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहीं। उनका कार्यकाल 15 साल चला और साल 2013 में आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल से खुद चुनाव हारने और दिल्ली की सत्ता गंवाने के बाद वह मुख्यमंत्री पद से हटीं।

शीला दीक्षित ने बदला दिल्ली का चेहरा
दिल्ली देश की राजधानी है और शीला दीक्षित के कार्यकाल में ही दिल्ली में कॉमनवेल्थ गेम्स भी आयोजित हुए थे। यही नहीं उन्हीं के कार्यकाल में दिल्ली को उसकी विश्वस्तरीय मेट्रो रेल का तोहफा भी मिला। उनके कार्यकाल में ही दिल्ली में दर्जनों फ्लाइओवर बने और दिल्ली की परिवहन व्यवस्था सुधरी। कहा जा सकता है कि शीला दीक्षित ने अपने कार्यकाल के दौरान दिल्ली का चेहरा बदल दिया।

केरल की थीं राज्‍यपाल
शीला का जन्म 31 मार्च, 1938 को पंजाब के कपूरथला में हुआ था। इसके बाद मार्च 2014 में शीला दीक्षित को केरल का राज्‍यपाल बनाया गया था। हालांकि, इसके बाद इन्‍होंने 25 अगस्‍त, 2014 को उन्‍होंने राज्‍यपाल के पद से इस्‍तीफा दे दिया था।

पीसी चाको ने कुछ दिन पहले भी कहा था तबियत खराब हैं आराम कीजिए 
करीब एक हफ्ते पहले ही दिल्‍ली के प्रदेश प्रभारी पीसी चाको ने शीला दीक्षित के साथ हुए विवाद के बाद कहा था आपकी तबियत खराब है आपको आराम की जरूरत है। इसके बाद कांग्रेस की गुटबाजी चरम पर आ गई थी। बीते मंगलवार को प्रदेश प्रभारी पीसी चाको ने तीनों कार्यकारी अध्यक्षों के अधिकार बढ़ाए तो इसके बाद बुधवार को प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित ने चाको समर्थक कार्यकारी अध्यक्ष हारून यूसुफ और देवेंद्र यादव के पर कतर दिए थे।

लोकसभा चुनाव 2019 में मनोज तिवारी के हाथों मिली थीं हार 
लोकसभा चुनाव 2019 से पहले कांग्रेस ने दिल्‍ली में भाजपा और आम आदमी पार्टी से लड़ने के लिए उन्‍हें बतौर प्रदेश अध्‍यक्ष वापस लाया था। हालांकि इस चुनाव में आम आदमी पार्टी के साथ कांग्रेस के गठबंधन की खबरों ने पूरी सुर्खियों बटोरी मगर अंतत: यह गठबंधन नहीं हो सका। इस गठबंधन के लिए दिल्‍ली के सीएम और आप के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने कई बार मीडिया में बयान दिया मगर बात नहीं बन सकी।

अरविंद केजरीवाल का कहना था कांग्रेस अगर साथ देती है तो दिल्‍ली में भाजपा का रास्‍ता रोकना आसान होगा। जब कांग्रेस और आप में गठबंधन नहीं हुआ तब शीला दीक्षित नई द‍िल्‍ली विधानसभा सीट से भाजपा के प्रदेश अध्‍यक्ष मनोज तिवारी के खिलाफ मैदान में उतरीं थी। हालांकि मोदी मैजिक के आगे शीला की नहीं चली और शीला दीक्षित अपनी सीट भी नहीं बचा पाईं। दिल्‍ली की सातों सीट पर कांग्रेस को भाजपा के हाथों हार का सामना करना पड़ा।

Hind Brigade

Editor- Majid Siddique