कश्मीर मुद्दाः ट्रंप के बयान पर राज्यसभा में हंगामा, पीएम मोदी से मांग स्पष्टीकरण

नई दिल्लीः अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर के मुद्दे पर भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता करने संबंधी बयान पर विपक्षी दलों ने आज राज्यसभा में जमकर हंगामा किया और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से स्थिति स्पष्ट करने की मांग की, जिससे सदन की कार्यवाही बारह बजे तक स्थगित करनी पड़ी।

सभापति एम वेंकैया नायडू ने विधायी दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाने के बाद कहा कि उन्हें कांग्रेस के आनंद शर्मा और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के डी राजा के ट्रंप के बयान पर नियम 267 के तहत नोटिस मिले हैं, लेकिन उन्होंने इन्हें अस्वीकार कर दिया है लेकिन सदस्य शून्यकाल में अपनी बात रख सकते हैं। नायडू ने कहा कि यह बेहद संवदेनशील और देश की एकता से जुड़ा मुद्दा है जिस पर समूचे देश और दोनों सदनों की ओर से केवल एक ही संदेश जाना चाहिए।

ANI

@ANI

Rajya Sabha adjourned till 2 PM, following an uproar by Opposition MPs where there were raising slogans of “Pradhanmantri jawab do,jawab do,jawab do”. They’re seeking a reply from PM in Parliament on statement of US President that PM Modi had asked him to mediate in Kashmir issue

View image on Twitter
52 people are talking about this
शर्मा और राजा ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के बयान पर गंभीर आपत्ति जताते हुए कहा कि यह राष्ट्र की एकता और अखंडता से जुड़ा मुद्दा है और खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को सदन में इस पर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। विपक्षी सदस्याें ने कहा कि खुद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इस बारे में स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, समाजवादी पार्टी और वामदलों के सदस्य अपनी जगहों पर खड़े होकर प्रधानमंत्री के वक्तव्य की मांग करने लगे। नायडू ने कहा कि सदस्यों को अपने विदेश मंत्री के बजाय अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान पर ज्यादा विश्वास है।

उन्होंने सदस्यों से कहा कि वे राष्ट्र हित के इस मुद्दे पर राजनीति न करें और उनके इस व्यवहार से गलत संदेश जा रहा हैं। इस पर तृणमूल कांग्रेस के सदन में नेता डेरेक ओ ब्रायन ने कुछ कहा जिससे सभापति उत्तेजित हो गये और उन्होंने सदन की कार्यवाही बारह बजे तक स्थगित कर दी हैं।