मलिंगा के बाद एक और श्रीलंकाई गेंदबाज ने किया इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास का ऐलान

नई दिल्ली। श्रीलंकाई टीम के तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा के संन्यास लेने के बाद अब एक और गेंदबाज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी है। श्रीलंकाई टीम के दाएं हाथ के तेज गेंदबाज नुवान कुलसेकरा ने इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया है।

21 साल की उम्र में साल 2003 में दामबुल्ला में इंग्लैंड के खिलाफ वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया था। अपने वनडे डेब्यू में नुवान कुलसेकरा ने 19 रन देकर 2 विकेट झटके थे। इंग्लैंड के खिलाफ नुवान कुलसेकरा का सलेक्शन बिना किसी बड़े प्रदर्शन के बावजूद हुआ था, लेकिन अपने टैलेंट से कुलसेकरा ने सभी को प्रभावित किया था।

37 वर्षीय नुवान कुलसेकरा ने जुलाई 2017 में आखिरी वनडे मैच खेला था। इसके बाद उनका सलेक्शन नहीं हुआ। इसके अलावा वे एक सड़क दुर्घटना के मामले में जेल भी चले गए। हालांकि, बाद में उन्हें बेल मिल गई और बाहर आ गए, लेकिन श्रीलंकाई टीम में जगह हासिल नहीं कर पाए।

स्विंग बॉलिंग के माहिर माने जाने वाले नुवान कुलसेकरा आइसीसी की वनडे रैंकिंग में नंबर वन गेंदबाज भी रहे हैं। इसके अलावा अपनी शानदार गेंदबाजी की बदौलत उन्होंने साल 2009 में आइसीसी वर्ल्ड ODI टीम ऑफ द ईयर में भी जगह बनाने में सफलता हासिल की थी।

नुवान कुलसेकरा थोड़ी बहुत बल्लेबाजी के लिए जाने जाते थे। साल 2011 के वर्ल्ड कप के फाइनल में भारत के खिलाफ नुवान कुलसेकरा ने 30 गेंदों में 32 रन बनाकर महेला जयवर्धने का आखिरी में साथ दिया था। इसी पारी के दम पर श्रीलंका ने 274 रन का स्कोर बनाया था, जिसे बाद में भारत ने चेज कर लिया।

वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल में एमएस धौनी ने जो विजयी छक्का लगाया था वो नुवान कुलसेकरा की ही गेंद पर लगा था। इस मैच में नुवान कुलसेकरा को एक भी विकेट नहीं मिला था और उन्होंने 8.2 ओवर में 64 रन खर्च कर दिए थे। इसी साल आइपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स ने नुवान कुलसेकरा को 6.5 करोड़ में खरीदा था।

श्रीलंकाई टीम के लिए नुवान कुलसेकरा ने 21 टेस्ट, 184 वनडे और 58 टी20 खेले हैं। इन मैचों में नुवान कुलसेकरा ने क्रमश: 48, 199 और 66 विकेट अपने नाम किए हैं। इसके अलावा इन तीनों फॉर्मेट में उन्होंने करीब 2000 इंटरनेशनल रन भी बनाए हैं।