खुद चुकी थी कब्र, मेहमान भी आ गए तभी खबर आई जिंदा हैं बाबा

धामनोद। नगर के वार्ड क्र. 14 बेगंदा रोड निवासी 75 वर्षीय सिराज बाबा का बीमारी के चलते इंदौर में उपचार के दौरान निधन हो गया था। उपचार कर रहे चिकित्सक ने भी उन्हें मृत घोषित कर दिया। निधन की खबर परिजनों को दी गई। घर-परिवार में मातम छा गया। मेहमान आने लगे।

उन्हें दफनाने के लिए कब्रिस्तार में कब्र भी खुदवा दी गई तभी खबर आई कि सिराज बाबा की सांसें चलने लगी हैं। लोग इसे ऊपर वाले का चमत्कार मान रहे हैं तो उनके मन में लापरवाह डॉक्टर के खिलाफ गुस्सा भी है।हालांकि इस संबंध में डॉक्‍टरों की प्रतिक्रिया नहीं मिल सकी है।

हुआ यूं कि 75 वर्षीय सिराज बाबा की मंगलवार रात को अचानक तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें नगर के निजी अस्पताल भर्ती कराया गया किंतु स्थिति बिगड़ने के चलते परिवार के लोगों ने उन्हें इंदौर के एमवाय हॉस्पिटल में भर्ती कराया। बुधवार सुबह 10 बजे डॉक्टर ने बाबा को मृत घोषित कर दिया। नजदीक रहने वाले समाज के जाउल मंसूरी ने बताया कि खबर मिलते ही समाज के लोग उनके घर पहुंच गए।

यहां तक की नारायण कॉलोनी स्थित जमात खाने से उनकी इंतकाल की सूचना भी आम कर दी गई। तभी अचानक से दोपहर 2 बजे बाबा के जीवित होने की खबर मिली। तत्काल लोगों को सूचना दी। सभी इस बात को आश्चर्य व चमत्कारबता रहे थे।

खुद चुकी थी कब्र, आ गए थे मेहमान

सिराज बाबा की मौत की सूचना मिलते ही समाज के लोगों ने कब्रस्तान में जाकर उन्हें दफन करने के लिए कब्र खोदने का कार्य शुरू कर दिया था। इधर बताया जा रहा है कि मेहमानों को बैठने के लिए घर के सामने टेंट तक लगाने की कवायद शुरू हो चुकी थी। रिश्तेदार साजिद ने बताया कि इंतकाल की खबर मिलते ही रिश्तेदारों को सूचना कर दी गई कु छ मेहमान जो नजदीक के थे वे आ भी चुके थे जबकि कु छ मेहमानों को रास्ते से लौटाया गया।

शव को ले जाने के लिए आ चुकी थी एंबुलेंस

बाबा के साले निजाम लाहौरी ने बताया कि एमवाय हॉस्पिटल के एक डॉक्टर ने बाबा को मृत बताया। इसके बाद बाबा के शव को ले जाने की तैयारियां शुरू कर दी । एंबुलेंस अस्पताल के गेट पर आ चुकी थी। मिलने आई महिलाओं को धामनोद के लिए रवाना भी कर दिया गया था।

करीब डेढ़ घंटे बाद बाबा के अचानक जीवित होने की खबर एक अन्य डॉक्टर द्वारा दी गई जो हमारे लिए चौंकाने वाली बात थी। इसके तुरंत बाद डॉक्टरों की एक टीम द्वारा बाबा को वापस आईसीयू में भर्ती कराया गया। हालांकि समाचार लिखे जाने तक बाबा की स्थिति सामान्य थी और वह आईसीयू में भर्ती थे।