Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha
खेल

खेल (24)

नई दिल्ली। दिल्ली डेयरडेविल्स को किंग्स इलैवन पंजाब ने 4 रनों से मात दे दी। 144 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए दिल्ली ने 20 ओवरों में 8 विकेट पर 139 रन बनाए। मुजीब उर रहमान ने आखिरी गेंद पर श्रेयस अय्यर (57) का विकेट लेकर पंजाब को जीत दिलाई। वहीं दिल्ली के कप्तान गौतम गंभीर इस मैच में भी फ्लाप रहे। वह 13 गेंद पर सिर्फ 4 रन ही बना सके। किंग्स इलेवन पंजाब के गेंदबाजों ने शानदार गेंदबाजी का प्रदर्शन किया। अंकित राजपूत ने 23 रन पर 2, एंड्रयू टाई और मुजीब उर रहमान ने 25-25 रन देकर 2-2 विकेट लिए।

किंग्स के गेंदबाजों का बेहतर प्रदर्शन

अगर दिल्ली के गेंदबाज अगर सफल रहे तो किंग्स इलेवन के गेंदबाजों ने उनसे बेहतर प्रदर्शन किया। डेयरडेविल्स के ट्रेंट बोल्ट के साथ पर्पल कैप साझा करने वाले एंड्रयू टाई ने बाद में खुलासा किया कि उनकी टीम ने दिल्ली के गेंदबाजों की रणनीति अपनायी जो कारगर साबित हुई। टाई ने कहा, पिच धीमी थी और उन्होंने काफी आफ कटर की थी। ऐसी गेंदों पर रन बनाना आसान नहीं था और इसलिए हमने भी वही रणनीति अपनायी। हमने क्षेत्ररक्षण के अनुसार गेंदबाजी की और सफल रहे।

टाई ने बताया मुजीब को क्योें दिया आखिरी अोवर

दिल्ली को आखिरी ओवर में 17 रन चाहिए थे और पंजाब के कप्तान रविचंद्रन अश्विन ने अफगानिस्तान के आफ स्पिनर मुजीब उर रहमान पर भरोसा दिखाकर उन्हें यह ओवर सौंपा। टाई ने कप्तान के इस फैसले का बचाव किया। इस आस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज ने कहा, श्रेयस और राहुल तेवतिया अच्छा खेल रहे थे और कप्तान चाहते थे कि मैं 18वां ओवर करुं।

हमारी रणनीति इन दोनों में से किसी एक को आउट करना था ताकि मुजीब जब आखिरी ओवर करने के लिये आयें तो बचाव करने के लिये अधिक रन हों। अब तक छह मैचों में नौ विकेट लेने वाले टाई ने पर्पल कैप हासिल करने पर कहा, मैं पर्पल कैप हासिल करके खुश हूं ओर इससे साबित होता है कि मैंने इस टूर्नामेंट में अब तक कितना बेहतर प्रयास किया है, लेकिन टीम की जीत महत्वपूर्ण है और उसके बिना यह कोई मायने नहीं रखता।

दुनिया भर में खुद किंवदंती की तरह पेश करना हर शख्स के बस की बात नहीं होती। खास तौर पर तब जब आप किसी देश को रिप्रेजेंट करते हो। भारत में सचिन तेंदुलकर एक किंवदंती का ही नाम है। यह ऐसी किंवदंती है जो खुद में ही एक संस्था की तरह काम करती है। मैदान में दर्शकों का मनोरंजन करना हो या सामाजिक मंच पर दिल जीतना, दोनों मामले में सचिन हमेशा की तरह अव्वल ही रहे हैं। आज सचिन के 46वें बर्थडे पर हम बताने जा रहे हैं सचिन से जुड़े कुछ चुनिंदा रिकॉर्ड जो उन्होंने जाने-अनजाने में बनाए। हालांकि इन रिकॉड्र्स को लेकर आपके मन में गफलत हो सकती है लेकिन यह 100 फीसदी सच है क्योंकि इसके बीच खुद सचिन ही खड़े हैं।

  • दुनिया के 90 से ज्यादा क्रिकेट स्टेडियम में खेल चुके हैं सचिन। मौजूदा ऐसी बहुत कम ग्राउंड होंगी जहां पर सचिन खेले नहीं होंगे। 2013 में संन्यास लेने से पहले ही वह यह रिकॉर्ड बना चुके थे।
  • सचिन के नाम पर ऑफिशियिली 2377 चौके दर्ज हैं। ऑफिशियल इसलिए क्योंकि टैस्ट क्रिकेट, फस्र्ट क्लास, लिस्ट ए में उनके चौकों का रिकॉर्ड ही नहीं है। हालांकि यह बात माननी मुश्किल है। लेकिन यह सच है।
  • क्रिकेट वल्र्ड कप में भी सचिन के नाम अनब्रेकेबल रिकॉर्ड दर्ज है। यह रिकॉर्ड उनके वल्र्ड कप में बनाए रनों के कारण है। सचिन कुल 6 वल्र्ड कप खेले हैं। इसमें उन्होंने सर्वाधिक 2278 रन बनाए हैं।
  • 1998 का साल सचिन का सर्वश्रेष्ठ साल था। इस दौरान उन्होंने कुल 1894 रन बनाए जो अब भी रिकॉर्ड है। इस प्रदर्शन की एक और खास बात थी वह थी- 5 बार 150 से ज्यादा रन बनाना। सचिन का यह रिकॉर्ड भी अब तक नहीं टूटा। 
  • वनडे में लगातार सर्वाधिक 183 मैच खेलने का रिकॉर्ड भी सचिन तेंदुलकर के नाम पर है। यह रिकॉर्ड 24 अप्रैल 1998 को तब टूटा जब किसी कारण सचिन एक मैच मिस कर गए थे।
  • बंगाल टाइगर सौरव गांगुली के साथ सचिन रिकॉर्ड 26 शतकीय साझेदारियां कर चुके हैं। इनमें से 21 ओपनिंग पर व पांच अन्य क्रम पर बनी थीं। दोनों ने साथ में वनडे में 6 हजार से ज्यादा रन भी बनाए हैं।
  • सचिन की अपनी पत्नी अंजलि से पहली मुलाकात एयरपोर्ट पर हुई थी। अंजलि  यहां अपने रिश्तेदार को लेने आई थी। दोनों की यहीं नजरें मिलीं। फिर कुछ दिन बाद जब वह एक फैमिली फंक्शन में दोबारा मिले तो बातें बढ़ीं, मुलाकातें बढ़ीं।
  • सचिन ने पहली बार अंजलि को अपने घर वालों से यह कहकर मिलवाया था कि वह पत्रकार हैं, इंटरव्यू लेने आई हैं। सचिन का एक और किस्सा बड़ा मशहूर है जब वह अंजलि के साथ फिल्म देखने गए थे। थिएटर में लोग उन्हें पहचान न लें इसलिए वह सरदार का गैटअप लेकर थिएटर पहुंच गए।
  • सचिन के नाम पर वनडे और टैस्ट को मिलाकर कुल 34347 रन दर्ज हैं। सबसे ज्यादा सेंचुरी 100, और सबसे ज्यादा फिफ्टी 198 (टैस्ट और वनडे दोनों) भी सचिन के नाम पर दर्ज है।
  • सचिन के नाम पर ऐसे बहुत सारे रिकॉर्ड हैं जो यहां बताने मुश्किल हैं क्योंकि इनमें से कई रिकॉर्ड तो उनके व्यक्तित्व ने क्रिकेट जगत में बनाए हैं। विश्व क्रिकेट के इस महान सपूत को उनके 46वें जन्मदविस पर पंजाब केसरी स्पोट्र्स की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं।

जालन्धर। दिल्ली के ग्राउंड पर किंग्स इलैवन पंजाब के साथ हुए रोमांचक मैच में हार के बाद दिल्ली डेयरडेविल्स के कप्तान गौतम गंभीर ने कहा कि शुरुआती ओवरों में जो हमने तीन विकेट गंवाए उससे हमारी टीम अंत तक उभर नहीं पाई। इसी कारण हमें मैच में हार झेलनी पड़ी। गंभीर ने कहा कि पहली ओवरों में ही विकेट गंवाकर हमने पंजाब को मैच थमा दिया था। हम स्कोर जरूर बना पा रहे थे लेकिन साथ ही साथ विकेट भी लगातार गंवा रहे थे।

गंभीर ने कहा कि हमारे बॉलर्स ने अच्छी गेंदबाजी की थी। इसी की बदौलत हम पंजाब को 150 रन से नीचे रोक पाए। नए साथी पृथ्वी शाह ने शानदार शुरुआत दी थी। इसके बाद श्रेयस अय्यर ने जिस तरह खेल दिखाया उससे बीच के ओवरों में लगने लगा था कि हम मैच में पकड़ बना लेंगे। लेकिन जैसे ही श्रेयस का विकेट गिरा। साथ ही ऋषब पंत और अंत में राहुल ट्वेटिया के रूप में झटके लगे, हम समझ गए मैच हमारे हाथ से निकल गया है।

गंभीर ने कहा कि मैं यह कहने में संकोच नहीं करूंगा कि राहुल ने बहुत बढिय़ा खेल दिखाया। यह उनकी ही बैटिंग थी कि हम आखिरी ओवर तक मैच को ले गए। बाकी जीत उसी की हुई जिसने बढिय़ा खेला। मैं जानता हूं कि पॉइंट टेबल में हमारी स्थिति अच्छी नहीं है। इसे सुधारने के लिए अभी बहुत सारे मैच पड़े हैं। हम कोशिश करेंगे कि बढिय़ा खेल दिखाएं ताकि सेमिफाइनल तक पहुंच जाए।

एंड्रयू टाइ को मिली पर्पल कैप

मैच दौरान जब पहले दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम बॉलिंग कर रही थी तब ट्रेंट बोल्ट ने दो विकेट झटककर पर्पल कैप अपने नाम कर ली थी। लेकिन जैसे ही दूसरी पारी शुरू हुई। पंजाब के गेंदबाज एंड्रयू टाइ ने दो विकेट झटककर पर्पल कैप अपने नाम कर ली। पर्पल कैप जीतने के बाद एंड्रयू ने कहा- पिच बेहद धीमी थी। इसलिए हमने फील्डिंग के अनुसार बॉलिंग करने की रणनीति बनाई। इसमें हम सफल भी रहे। यही हमारी जीत का कारण भी बना।

हैदराबाद चेन्नई सुपर किंग्स ने रविवार को खेले गए इंडियन प्रीमियर लीग के 11वें संस्करण में सनराइजर्स हैदराबाद को 4 रन से हरा दिया। चेन्नई ने इस सीजन के अपने 5वें मैच में चौथी जीत हासिल की है, वहीं हैदराबाद को 5वें मैच में दूसरी हार मिली है। इस मैच में टीम के लिए अंबाती रायडू (79) और सुरेश रैना ने नाबाद 54 रन बनाए थे। रायडू और रैना दोनों ने ही इस सीजन में अपना पहला अर्धशतक पूरा किया था। रायडू ने अपनी परी में 9 चौके और 4 सिक्स भी लगाए। अंबाती रायुडू अपने झगड़ालू स्वभाव के लिए जाने जाते हैं।

इस सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स से खेल रहे अंबाती रायुडू ने साल 2016 में हुए IPL में हरभजन सिंह को झिड़क दिया था। उस वक्त ये दोनों मुंबई इंडियन्स टीम में शामिल थे। ये घटना मुंबई इंडियन्स और राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स के बीच खेले गए मैच में हुई थी। भज्जी की बॉल पर पुणे के प्लेयर सौरभ तिवारी ने डीप मिडविकेट और लॉन्ग ऑन के बीच से शॉट लगाया था।

इसके बाद रायुडू ने डाइव लगाकर बॉल रोकने की कोशिश की, लेकिन बॉल उनके हाथ पर लगने के बाद बाउंड्री के बाहर चली गई। मिस फील्ड से भड़के हरभजन ने बीच पिच से ही रायुडू को चिल्लाकर गाली दे डाली। गाली सुनकर रायुडू भी भड़क गए और उन्होंने भी भज्जी को कुछ कहा। माहौल बिगड़ता देख हरभजन सिंह उन्हें समझाने गए, लेकिन रायुडू उन्हें झिड़ककर चलते बने थे।

रायडू का इंटरनेशनल करियर

2013 में उन्होंने टीम इंडिया के लिए डेब्यू करते हुए जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे मैच भी खेला। वहीं 2014 में इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 डेब्यू किया। डेब्यू के बाद से ही वे भारत की ओर से 34 वनडे खेल चुके हैं। जिसमें 50.23 के एवरेज से 1055 रन उन्होंने बनाए हैं।

जयपुर। IPL-11 के 21वें मैच में राजस्थान रॉयल्स ने मुंबई इंडियंस को 3 विकेट से मात देते हुए टूर्नामैंट में वापसी की। राजस्थान टूर्नामैंट में 6 मैच खेलकर 3 जीत और 3 हार के साथ अंकतालिका में 5वें स्थान पर पहुंच गई है, वहीं मुंबई इंडियंस 5 मैचों में केवल एक जीत के साथ 7वें स्थान पर है। इससे पहले राजस्थान रायल्स के गेंदबाजों ने मुंबई को 7 विकेट पर 167 रन पर ही रोक दिया। टूर्नामैंट में अपना पहला मैच खेल रहे जोफ्रा आर्चर रॉयल्स के सबसे सफल गेंदबाज रहे। उन्होंने 22 रन देकर 3 विकेट लिए।

इस मैच में 'प्लेयर ऑफ द मैच' तो बॉलर जोफ्रा आर्चर बने। लेकिन राजस्थान की टीम की जीत में सबसे अहम रोल ऑलराउंडर गौतम कृष्णप्पा ने अदा किया। उन्होंने ऐन मौके पर 11 बॉल पर 33* रन की पारी खेलकर मुंबई के हाथों से जीत को छीन लिया। गौतम ने सिक्स लगाकर टीम को जीत दिलाई। गौतम को राजस्थान रॉयल्स की टीम ने 6.2 करोड़ रुपए में खरीदा है। जबकि उनकी बेस प्राइस सिर्फ 20 लाख रुपए थी। आपको बता दें कि पिछले IPL सीजन में गौतम मुंबई इंडियन्स टीम में शामिल थे।
जिसने उन्हें ऑक्शन में 2 करोड़ रुपए में खरीदा था। हालांकि उस सीजन में उन्हें कोई मैच खेलने का मौका नहीं मिला था।

IPL 2017 के दौरान गौतम पूरे सीजन बेंच पर ही बैठे रह गए थे। किसी भी क्रिकेटर के लिए ये एक बड़ी इंसल्ट की बात होती है। उन्होंने अपनी पूर्व टीम के खिलाफ खेलते हुए अपनी उस इंसल्ट का बदला ले लिया जो मुंबई की टीम में हुई थी। राजस्थान को जीत के लिए 17 गेंदों पर 43 रन चाहिए थे। जीत उनकी टीम से कोसों दूर थी। तब बैटिंग करने उतरे गौतम ने ताबड़तोड़ बैटिंग करते हुए 11 बॉल पर 33* रन ठोक डाले और मुंबई के हाथों से जीत को छीनकर राजस्थान की छोली में डाल दी। भी लगाए।

नई दिल्ली। कृष्णप्पा गौतम ने 11 गेंदों पर नाबाद 33 रन की धमाकेदार पारी खेलकर राजस्थान रायल्स को उतार चढ़ाव से भरे आईपीएल मैच में आज यहां मुंबई इंडियन्स पर तीन विकेट से रोमांचक जीत दिलाई। संजू सैमसन (39 गेंदों पर 52) और बेन स्टोक्स (27 गेंदों पर 40) के बीच तीसरे विकेट के लिए 72 रन की साझेदारी के बावजूद रायल्स आखिरी ओवरों तक बैकफुट पर दिख रहा था। गौतम ने तब जिम्मा संभाला जब टीम को 17 गेंदों पर 43 रन चाहिए थे और फिर मैच का पासा पलट दिया। उन्होंने चार चौके और दो छक्के लगाकर टीम का स्कोर 19.4 ओवर में सात विकेट पर 168 रन के लक्ष्य तक पहुंचाया। मुंबई ने इससे पहले सात विकेट पर 167 रन बनाए थे। उसकी तरफ से सूर्यकुमार यादव (47 गेंदों पर 72) और इशान किशन (42 गेंदों पर 58) ने दूसरे विकेट के लिये 129 रन जोड़कर अपनी टीम को अच्छी शुरूआत दिलायी थी लेकिन मुंबई अंतिम 35 गेंदों पर केवल 37 रन बना पाया और इस बीच उसने छह विकेट गंवाये कीरोन पोलार्ड (नाबाद 21) ही दोहरे अंक में पहुंचने वाले तीसरे बल्लेबाज थे।

मुंबई की यह चौथी हार
यह आखिर में मैच का नायक 29 वर्षीय आलराउंडर गौतम रहा जिन्होंने मुशफिकुर रहमान की 18वें ओवर की अंतिम दो गेंदों पर छक्का और चौका लगाया और फिर जसप्रीत बुमराह के अगले ओवर में भी दो चौके लगाये। रायल्स को आखिरी ओवर में दस रन की दरकार थी। गौतम ने हार्दिक पंड्या पर पहले चौका और फिर मिडविकेट पर विजयी छक्का लगाया। रायल्स की यह छह मैचों में तीसरी जीत है जबकि पहले तीन मैच गंवाने वाली मुंबई की टीम की यह पांच मैचों में चौथी हार है। रायल्स ने पारी का आगाज करने के लिए उतरे राहुल त्रिपाठी (09) और कप्तान अंजिक्य रहाणे (14) के विकेट पावरप्ले में गंवा दिये थे। त्रिपाठी ने कृणाल पंड्या की गेंद पर मिड आन पर आसान कैच थमाया तो रहाणे ने लंबा शाट खेलने के प्रयास में मिडविकेट पर कैच दिया। रायल्स की जिम्मेदारी सैमसन और स्टोक्स पर थी लेकिन ये पहले दस ओवर तक स्कोर 70 रन ही पहुंच पाया। पावरप्ले के बाद अगले चार ओवरों में केवल एक बार गेंद सीमा रेखा तक पहुंची। स्टोक्स ने मिशेल मैकलेनगेन की लगातार गेंदों पर छक्का और चौका जड़कर चुप्पी तोड़ी।

रायल्स 13वें ओवर में 100 रन के पार पहुंचा
स्टोक्स और सैमसन क्रीज पर थे लेकिन आवश्यक रन रेट लगातार बढ़ता जा रहा था। रायल्स 13वें ओवर में 100 रन के पार पहुंचा। ऐसे समय में हाॢदक पंड्या ने यार्कर पर स्टोक्स का लेग स्टंप थर्रा दिया। जब टीम को आखिरी चार ओवरों में 44 रन चाहिए थे तब बुमराह ने सैमसन और जोस बटलर को लगातार गेंदों पर आउट करके रायल्स के खेमे में सनसनी फैला दी। लेकिन के गौतम के इरादे कुछ और थे और उन्होंने पासा पलटने में देर नहीं लगाई। मुंबई की तरफ से बुमराह और हाॢदक पंड्या ने दो दो विकेट लिए। इससे पहले मुंबई की पारी सूर्यकुमार और इशान के इर्द गिर्द घूमती रही लेकिन रायल्स के गेंदबाजों ने अच्छी वापसी की। उसकी तरफ से आईपीएल में अपना पहला मैच खेल रहे जोफ्रा आर्चर ने 22 रन देकर तीन विकेट जबकि धवल कुलकर्णी ने 32 रन देकर दो विकेट लिए। इविन लुईस (शून्य) के पहले ओवर में आउट होने के बाद इशान और सूर्यकुमार ने जिम्मेदारी संभाली और 11वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचा दिया। इससे उन्होंने अपनी शतकीय साझेदारी भी पूरी की। इस बीच सूर्यकुमार ने अधिक तेजी दिखायी। उन्होंने श्रेयस गोपाल पर कवर क्षेत्र के ऊपर से खूबसूरत छक्का जड़कर 29 गेंदों पर अपना अर्धशतक पूरा किया। इशान का इसी ओवर में काउ कार्नर पर लगाया गया छक्का भी दर्शनीय था। सूर्यकुमार को 55 रन के निजी योग पर जीवनदान भी मिला।

इशान ने अपने अर्धशतक के लिए 35 गेंदें खेली। इस तरह से इन दोनों ने डेथ ओवरों के लिए अच्छा मंच तैयार कर दिया था लेकिन रायल्स के गेंदबाजों ने अच्छी वापसी की और उन्होंने रन गति पर अंकुश लगाने के साथ विकेट भी निकाले। कुलकर्णी ने इशान को विकेट के पीछे कैच कराकर शतकीय साझेदारी तोड़ी। सूर्यकुमार ने भी जयदेव उनादकट (31 रन देकर एक विकेट) के अगले ओवर में हवा में गेंद लहराकर पवेलियन की राह पकड़ी जबकि रोहित केवल एक गेंद का सामना करने के बाद रन आउट हो गये। इशान ने चार चौके और तीन छक्के जबकि सूर्यकुमार ने छह चौके और तीन छक्के लगाये। तेज गेंदबाज आर्चर ने कृणाल पंड्या (सात) के रूप में आईपीएल का अपना पहला विकेट लिया और फिर इसी ओवर में उनके छोटे भाई हार्दिक (चार) और मिशेल मैकलेनगन की गिल्लियां बिखेरी।

पुणे। आईपीएल के 11वें संस्करण में खराब दौर से गुज़र रही राजस्थान रायल्स को चेन्नई सुपरकिंग्स के हाथों टूर्नामेंट की तीसरी हार ङोलनी पड़ गई जिसके बाद टीम के मेंटर शेन वार्न ने राजस्थान के प्रशंसकों से माफी मांगी है। अजिंक्या रहाणो की कप्तानी में खेल रही राजस्थान की टीम को पांच मैचों में तीन में हार मिली है। उसे शुक्रवार रात चेन्नई के हाथों 64 रन से शिकस्त ङोलनी पड़ी थी। टीम का गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों में प्रदर्शन काफी खराब रहा था। इस मैच में ऑलराउंडर शेन वाटसन ने आईपीएल में अपनी तीसरे शतक की कामयाबी भी हासिल की जिसके बाद पुणो के बाहरी मैदान में अपना घरेलू मैच खेल रही महेंद्र सिंह धोनी की टीम तालिका में शीर्ष पर पहुंच गई।          

राजस्थान की एक और हार के बाद निराश टीम के मेंटर वार्न ने ट्विटर पर टीम के प्रशंसकों से खराब प्रदर्शन के लिये माफी मांगते हुये कहा कि वे टीम पर भरोसा बनाये रखें। उन्होंने लिखा मैं राजस्थान के सभी प्रशंसकों से माफी मांगता हूं। टीम ने चेन्नई के खिलाफ मैच के तीनों विभागों में बहुत निराश किया। पूर्व क्रिकेटर ने लिखाहमारे खिलाड़ी प्रयास कर रहे हैं और आपको उनपर अपने भरोसे को बनाये रखना चाहिये। आप अपना सब्र बनाये रखें और हम जरुर वापसी करेंगे। दो मैच जीतने के बाद पांच में तीन हारना ठीक नहीं है। राजस्थान की टीम फिलहाल तालिका में पांच में दो जीत, तीन हार के साथ चार अंक लेकर पांचवें नंबर पर खिसक गई है। चेन्नई के खिलाफ भी उसका प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा था और गेंदबाजों ने भारी रन लुटाये जबकि बल्लेबाजों में केवल बेन स्टोक्स ही बोर्ड पर 45 रन जोड़ सके।

मोहाली। आईपीएल-11 के पहले शतकधारी बने किंग्स इलैवन पंजाब के कैरेबियाई खिलाड़ी क्रिस गेल ने कहा है कि, टीम के निदेशक वीरेंद्र सहवाग ने आखिरी समय पर उन्हें खरीदकर टूर्नामैंट को बचा लिया है। फरवरी में हुई खिलाड़ियों की नीलामी में 2 मौकों पर गेल बिना बिके रहे थे, लेकिन आखिरी समय पर सहवाग ने उन्हें खरीदकर पंजाब में शामिल कर लिया। गेल ने कहा, मैं खेलने को लेकर हमेशा दृढ़ निश्चय रहता हूं। कई लोगों को लगता है कि क्रिस को अभी काफी कुछ साबित करना है और उन्होंने मुझे नीलामी में भी नहीं खरीदा, लेकिन मैं कहूंगा कि सहवाग ने आखिरी समय पर मुझे खरीदकर आई.पी.एल. को बचा लिया।’ लंबे अर्से तक विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर का हिस्सा रहे गेल को 11वें संस्करण के लिए उनकी टीम ने न तो रिटेन किया और न ही नीलामी में खरीदा था। उन्होंने कहा, लगातार दूसरी बार मैन ऑफ द मैच बनना अच्छी शुरुआत है।’

पंजाब और केकेआर के मुकाबले में गेल व रसेल के बल्लों पर नजरें

कोलकाता नाइट राइडर्स और शानदार फार्म में लौटी किंग्स इलैवन पंजाब आई.पी.एल. के मैच में आज भिड़ेंगी तो सभी की नजरें बल्लों से शरारे उगलने वाले जमैका के आंद्रे रसेल और क्रिस गेल पर लगी होंगी। गेल ने हैदराबाद के खिलाफ इस सत्र का पहला शतक जड़ते हुए 63 गेंद में नाबाद 104 रन बनाए। इसके साथ ही उन्होंने आई.पी.एल. नीलामी में पहले दौर में नहीं बिकने के जख्मों पर भी मरहम लगाया। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर और के.के.आर. का हिस्सा रहे गेल इस सत्र के लिए हुई नीलामी में पहले दौर में नहीं बिके थे।

पुणे। शेन वाटसन ने शुरू में मिले दो जीवनदान का पूरा फायदा उठाकर आज यहां अपने आईपीएल करियर का तीसरा शतक जमाया जिससे चेन्नई सुपरकिंग्स ने आज यहां आईपीएल मैच में राजस्थान रायल्स को 64 रन से करारी शिकस्त देकर फिर से जीत की राह पकड़ी। सलामी बल्लेबाज वाटसन ने 57 गेंदों पर 106 रन बनाये जिसमें नौ चौके और चार छक्के शामिल हैं। उन्होंने सुरेश रैना (29 गेंदों पर नौ चौकों की मदद से 46 रन) के साथ दूसरे विकेट के लिये 81 रन और ड्वेन ब्रावो (नाबाद 24) के साथ पांचवें विकेट के लिये 41 रन जोड़े जिससे अपने नये घरेलू मैदान पर खेल रहे चेन्नई ने पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर पांच विकेट पर 204 रन बनाए। 

इसके जवाब में रायल्स की टीम 18.3 ओवर में 140 रन पर सिमट गई। उसकी तरफ से बेन स्टोक्स ने सर्वाधिक 45 रन बनाए। चेन्नई की यह चार मैचों में तीसरी जीत जबकि रायल्स की पांच मैचों में तीसरी हार है। चेन्नई की तरफ से दीपक चहर (30 रन देकर दो) ने रायल्स का शीर्ष क्रम झकझोरा जबकि ड्वेन ब्रावो (16 रन देकर दो) ने मध्यक्रम लडख़ड़ाया। शार्दुल ठाकुर (18 रन देकर दो) और कर्ण शर्मा (13 रन देकर दो) ने दो-दो विकेट लिये जबकि वाटसन और इमरान ताहिर ने एक-एक विकेट लिया। 

राजस्थान के बल्लेबाजों पर दिख रहा था दवाब
रायल्स ने बड़े लक्ष्य के सामने तीन ओवर तक हेनरिच क्लासेन (सात) और संजू सैमसन (दो) के विकेट गंवा दिये। रहाणे के खिलाफ महेंद्र सिंह धौनी की डीआरएस की मांग सही नहीं निकली लेकिन रायल्स का कप्तान इसका फायदा नहीं उठा पाया। चहर ने शार्ट पिच गेंद पर उन्हें बोल्ड करके स्कोर तीन विकेट पर 32 रन कर दिया। इसके बाद जोस बटलर और स्टोक्स ने चौथे विकेट के लिए 45 रन जोड़े लेकिन दस ओवर के बाद रायल्स के स्कोर तीन विकेट पर 77 रन था जिसमें ड्वेन ब्रावो के अगले ओवर की पहली गेंद एक और विकेट जुड़ गया। बटलर उनकी आफकटर की तेजी को नहीं समझ पाए और उन्होंने स्लिप में हवा में लहराता आसान कैच दिया। बढ़ते रन रेट का दबाव बल्लेबाजों पर साफ दिख रहा था। राहुल त्रिपाठी (पांच) ने सैम बिङ्क्षलग्स को हवा में लहराता कैच थमाया जबकि स्टोक्स ने इमरान ताहिर पर लगातार दूसरा छक्का जडऩे के प्रयास में इसी क्षेत्ररक्षक को सीमा रेखा पर कैच दिया। इसके बाद चेन्नई की जीत महज औपचारिकता रह गई थी।                
 

इससे पहले चेन्नई ने राजस्थान के खिलाफ पांच विकेट पर 204 रन का मजबूत स्कोर खड़ा किया। सलामी बल्लेबाज वाटसन ने आखिरी ओवर में आउट होने से पहले 57 गेंदों पर 106 रन बनाये जिसमें नौ चौके और चार छक्के शामिल हैं। उनके बाद चेन्नई की तरफ से दूसरा बड़ा स्कोर सुरेश रैना (29 गेंदों पर 46 रन) का रहा जिनके साथ वाटसन ने दूसरे विकेट के लिये 81 रन की साझेदारी की। ड्वेन ब्रावो 24 रन बनाकर नाबाद रहे। रायल्स की तरफ से श्रेयस गोपाल ने 20 रन देकर तीन और बेन लागलिन ने 38 रन देकर दो विकेट लिये।           

आखिरी 7 ओवरों में बने सिर्फ 54 रन
चेन्नई ने पहले 13 ओवर में लगभग 11.50 के रन रेट से रन बनाकर स्कोर 150 रन पर पहुंचा दिया था लेकिन इसके बाद रायल्स के गेंदबाजों ने अच्छी वापसी की और अंतिम सात ओवरों में केवल 7.71 के रन रेट से 54 रन दिये। लंबे समय तक राजस्थान रायल्स का अहम अंग रहे वाटसन ने अपनी इस पूर्व टीम के कमजोर आक्रमण और लचर क्षेत्ररक्षण का पूरा फायदा उठाया। उन्हें पहले दो ओवरों में दो जीवनदान मिले। दोनों अवसरों पर राहुल त्रिपाठी ने उनका कैच छोड़ा। इनमें से पहला कैच काफी आसान था। त्रिपाठी की इस गलती की सजा रायल्स के गेंदबाजों को भुगतनी पड़ी। वाटसन ने अगले ओवर में जयदेव उनादकट पर दो खूबसूरत छक्के लगाये। 

वाटसन ने अंबाती रायुडु के साथ पहले विकेट के लिये 50 रन जोड़े। इसमें रायुडु का योगदान केवल 12 रन था जिन्होंने विकेट के पीछे आसान कैच दिया। लेकिन इससे रायल्स की परेशानी समाप्त नहीं हुई क्योंकि पहले दो मैचों में नाकाम रहने और पिछले मैच से बाहर बैठने वाले रैना अपनी जीवंत उपस्थिति दर्ज कराने के लिये बेताब थे। उन्होंने बेन स्टोक्स पर लगातार चार चौके लगाकर अपने तेवर दिखाये।  इसके बाद भी बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने चौकों की झड़ी लगाये रखी जबकि वाटसन ने के गौतम पर छक्का जड़कर 28 गेंदों पर 50 रन पूरे किए। रैना हालांकि अर्धशतक से चूक गये। श्रेयस गोपाल की गेंद पर गौतम ने डीप मिडविकेट पर कैच लेने के बाद इसी गेंदबाज के अगले ओवर में चेन्नई के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी (पांच) का छह रन के लिये जा रहा शाट भी कैच में बदला। गोपाल ने सैम बिलिंग्स (तीन) को भी आते ही पवेलियन की राह दिखायी, लेकिन वाटसन ने एक छोर संभाले रखा। उन्होंने 51 गेंदों पर अपना शतक पूरा किया जो आईपीएल में उनका तीसरा सैकड़ा है।  

जालन्धर : सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मोहाली स्टेडियम में खेले गए टी-20 दौरान पंजाब किंग्स इलैवन के बल्लेबाज क्रिस गेल ने एक बार से साबित किया कि उन्हें सिक्सर किंग क्यों कहा जाता है। गेल ने 103 रन की अपनी पारी दौरान 11 धनधनाते छक्के मारे। वैसे भी मोहाली का स्टेडियम काफी रास आता है। गेल ने यहां छठा मैच खेला था जिसमें आईपीएल-11 का पहला शतक लगाया। इससे पहले उन्होंने यहां खेले गए छह मुकाबलों में 14 (12), 87 (56), 61 (33), 17 (14), 63 (33) और 104* (63) रन बनाए हैं। इस तरह गेल मोहाली में गेल के नाम तीन अर्धशतक और एक शतक दर्ज हो चुका है। उनकी स्ट्राइक रेट भी यहां 163 की चल रही है। यानी- 211 गेंद में 346 रन के कारण।

क्रिस गेल ने मैच दौरान अफगानी बॉलर राशिद खान की खूब खबर ली। हालांकि इससे पहले राशिद ने क्रिस गेल के साथ बदसलूकी भी की थी जब राशिद की एक गेंद को गेल ने रक्षात्मक ढंग से रोक दिया था। लेकिन उधर, जोश से लबरेज राशिद ने बॉल पकड़ी और सीधी गेल के स्टंम्प पर दे मारी। गेल कुछ नहीं बोले। इसका जवाब उन्होंने बच्चे से दिया। गेल ने राशिद के एक ओवर में चार लगातार छक्के मारे। हालांकि एक समय ऐसा लग रहा था कि गेल लगातार दो बार एक ओवर में पांच छक्के मारने का रिकॉर्ड बना देंगे लेकिन ऐसा हो नहीं पाया।

क्रिस गेल ने इससे पहले पिछला शतक 2015 में पंजाब के खिलाफ बनाया था। बेंगलुरु में खेले गए इस मैच में क्रिस गेल और विराट कोहली ने ओपिंनग की थी। मैच दौरान गेल ने धनधनाते 12 छक्के मारे थे। गेल ने महज 57 गेंदों का सामना करते हुए 117 रन बनाए थे जिसमें 7 चौके भी शामिल थे। वहीं, कोहली 32, डीविलियर्स ने चार छक्के और तीन चौकों की मदद से 47 रन बनाए थे। जवाब में खेलने उतरी पंजाब की टीम तब महज 88 रन पर ऑल आऊट हो गई थी।

छक्के के मामले में दूसरे नंबर पर पहुंचे गेल
गेल ने दूसरे मैच में कुल 11 छक्के लगाए। इस तरह पिछले मैच के 4 छक्के मिलाकर वह आईपीएल-11 में अब तक 15 छक्के जड़ चुके हैं। उनसे ऊपर सिर्फ हमवतन आंद्रे रसैल है जोकि कोलकाता की ओर से खेलते हुए अब तक 19 छक्के मार चुके हैं। गेल इस सीजन में संजू सैमसन (12), ईवन लैविस (11) और एबी डीविलियर्स (10) में पीछे छोड़ चुके हैं।

आईपीएल में क्रिस गेल के लिए सबसे अच्छा सीजन 2011 गया था। इस दौरान उन्होंने 12 मैच खेले, 3 बार नॉट आऊट रहते हुए उन्होंने कुल 608 रन बनाए थे। उनकी इस सीजन की सबसे खास बात उनकी स्ट्राइक रेट (183.13) थी जो अब तक की सबसे ज्यादा स्ट्राइक रेट है। अब मौजूदा सीरीज में चाहे ही क्रिस गेल दो ही मैच खेले हैं लेकिन उनका स्ट्राइक रेट अभी 188 चल रहा है जोकि बताता है कि गेल 2011 वाली अपनी फॉर्म में वापस लौट आए हैं।

Page 1 of 2

Visitor Counter

Today 0

Week 748

Month 837

All 837

Currently are 214 guests and no members online

Facebook LikeBox

Post Gallery

नाबालिग छात्रा के साथ गैंगरेप

एबीवीपी का सदस्यता अभियान

कश्मीर में शूटिंग करते सलमान खान की ये तस्वीरें हुर्इ वायरल

मैं कभी कास्टिंग काउच का शिकार नहीं हुआ - रणबीर कपूर

Asaram Verdict: रेप पीड़िता के पिता बोले, न्‍याय मिला

मोदी-माल्या पर शिकंजा कसेगी ED, नए अध्यादेश के तहत होगी संपत्ति कुर्क

भगवान बनकर लोगों को लूटने वाले ये चार बाबा भी हैं सलाखों के पीछे

नाबालिग से रेप केस में आसाराम को उम्रकैद, फैसला सुनते ही फूट-फूट कर रोया

आसाराम न्यायालय मे सजा सुनते ही रो पडा