Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

गोल्डकोस्ट कॉमनवैल्थ A to Z : भारत ने पदकों की संख्या की 500 से पार, बनाए कई रिकॉर्ड

जालन्धर। गोल्डकोस्ट में आखिरकार भारत ने इतिहास रच दिया। रविवार को कुल 66 मैडल के साथ भारत ने कॉमनवैल्थ गेम्स में अपनी पारी समाप्त की। यह पिछले ग्लास्गो कॉमनवैल्थ गेम्स से दो मैडल ज्यादा है। लेकिन गोल्डकोस्ट कॉमनवैल्थ इसलिए खास है क्योंकि इसने कई भारतीय खेल की कई परंपराएं तोड़ीं। हमें नए खेलों में नए चैंपियन मिले। पहलवानी हो, बॉक्सिंग हो चाहे बैडमिंटन भारतीय खिलाडिय़ों ने उम्मीद मुताबिक अच्छा प्रदर्शन किया। सबसे ज्यादा हैरान भारतीय टेबल टेनिस टीम ने किया। खास तौर पर नई दिल्ली की मनिका बत्रा ने। मनिका कॉमनवैल्थ गेम्स में टेबल टैनिस वर्ग से अकेले ही चार मैडल जीतने वाली पहली भारतीय भी बन गई हैं। गेम्स के आखिरी दिन भारत को सात्विक रैड्डी और चिराग शेट्टी ने बैडमिंटन डबल में सिल्वर दिलाया। यह भारत का 66वां पदक था। बता दें कि कॉमनवैल्थ गेम्स में अब भारत कुल मिलाकर 505 मैडल जीत चुका है। 

Doordarshan Sports
 
@ddsportschannel
 
 

Medal Tally of
With 26 ?medal India at 3rd positon in

 

आजादी से पहले भारत को मिले थे सिर्फ दो मैडल
कॉमनवैल्थ गेम्स की शुरुआत 1930 में हुई थी। हर चार साल बाद होने वाली यह गेम्स 1942 और 1946 में वल्र्ड वार के चलते हो नहीं पाई थी लेकिन उसके बाद से लगातार यह गेम्स हो रही हैं। इन गेम्स का कई बार नाम बदला गया। 1930 में इसे ब्रिटिश इम्पायर गेम्स के नाम से जाना जाता था। लेकिन 1954 में इसे बदलकर ब्रिटिश इम्पायर एंड कॉमनवैल्थ गेम्स रख दिया गया। 1970 में इसे ब्रिटिश कॉमनवैल्थ गेम्स कहा गया। लेकिन उसके बाद इसे सिर्फ कॉमनवैल्थ गेम्स कहा जाने लगा। फर्क सिर्फ इतना है कि जिस जगह पर यह गेम होती हैं, उस शहर का नाम अब कॉमनवैल्थ गेम्स के आगे लग जाता है। जैसे कि इस बार ऑस्ट्रेलिया में हुई इस गेम का नाम था गोल्डकोस्ट कॉमनवैल्थ गेम्स।

Doordarshan Sports
 
@ddsportschannel
 
 

That's it for India at
??finished with 26 ?, 20 ? and 20 ? medals - overall tally of 66 medals which is the third best in their history of after 2010 (101 medals) and 2002 (69 medals).

 

1990 के बाद भारतीय खिलाडिय़ों ने पकड़ी रफ्तार
1990 की कॉमनवैल्थ गेम्स भारत के लिए बेहद खास हैं, क्योंकि यह वह ही गेम थी जिसमें भारत ने पहली बार दहाई का आंकड़ा पार किया था। भारत ने इन गेम्स में तब 13 गोल्उ और 32 पदक हासिल किए थे, जोकि उस समय बड़ी उपलब्धि माना गया। बता दें कि भारत आाजादी से पहले भी दो बार कॉमनवैल्थ गेम्स में हिस्सा ले चुका था। लेकिन इनमें उन्हें सिर्फ दो ही पदक हासिल हुए थे। आजादी के बाद 1954 में भारत ने इन गेम्स में हिस्सा लिया लेकिन कोई भी भारतीय खिलाड़ी मैडल नहीं जीत पाया। 1958 में जाकर भारतीय खिलाडिय़ों ने आजाद भारत का कॉमनवैल्थ गेम्स में खाता खोला। तब भारतीय खिलाडिय़ों ने 2 गोल्ड समेत तीन मैडल जीते थे। 

दिल्ली कॉमनवैल्थ में किया था भारतीयों ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन
PunjabKesari
कॉमनवैल्थ गेम्स में भारतीय के लिए स्वर्णिम साल रहा था 2010 जब दिल्ली में यह गेम्स हुई थीं। भारतीय खिलाडिय़ों ने यहां कमाल का प्रदर्शन करते हुए 101 मैडल प्राप्त किए थे। इनमें सर्वश्रेष्ठ 38 गोल्ड भी थे। ऐसा कर भारतीय खिलाडिय़ों ने 2002 में मेनचेस्टर में हुई गेम्स में अपना 30 गोल्ड का रिकॉर्ड तोड़ दिया था। भारत ने आजादी के बाद अब तक कुल 15 कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लिया है। इसमें उसने 181 गोल्ड, 175 सिल्वर और 148 ब्रॉन्ज के साथ 502 मेडल जीते हैं।

भारत के कॉमनवेल्थ में अब तक के 4 सबसे अच्छे प्रदर्शन
वर्ष       स्थान    गोल्ड    सिल्वर    ब्रॉन्ज    कुल

2010   दिल्ली    38    27    36    101
2002   मेनचेस्टर    30    22    17    69
2018   गोल्डकोस्ट    26    20    20    66
2014   ग्लास्गो    15    30    19    64

आखिरी दिन इस तरह रहा भारतीय खिलाडिय़ों का प्रदर्शन
बैडमिंटन : महिला सिंगल्स में सायना नेहवाल और पीवी सिंधु आमने-सामने थीं। हाई वोल्टेज ड्रामे में साइना ने एक बार फिर अपनी श्रेष्ठता दिखाते हुए गोल्ड पर कब्जा जमाया। रियो ओलंपिक में सिल्वर मैडल विजेता पीवी सिंधु ने हालांकि फाइनल में साइना को कड़ी टक्कर दी लेकिन वह साइना के अनुभव से पार नहीं पा सकीं। साइना इससे कॉमनवैल्थ गेम्स में दो गोल्ड पाने वाली अकेली बैडमिंटन प्लेयर भी बन गई हैं। 56 मिनट तक चले फाइनल में उन्होंने सिंधु को 21-18, 23-21 से हराया।


कुछ दिन पहले ही पुरुष वर्ग में नंबर वन बने भारतीय शटलर किदांबी श्रीकांत पुरुष सिंगल में उलटफेर का शिकार हो गए। श्रीकांत को मलेशिया के दिग्गज ली चोंग वेई ने एक घंटे पांच मिनट चले मैच दौरान 19-21, 21-14, 21-14 से मात देकर गोल्ड पर कब्जा जमाया।

 

पुरुष डबल्स वर्ग में भी भारतीय जोड़ी सात्विक साईराज रंकीरैड्डी और चिराग शेट्टी फाइनल में पहुंचे थे। लेकिन वह इंग्लैंड की मार्कस एलिस और क्रिस लेंगरिज की जोड़ी को टक्कर नहीं दे पाए और सीधे सेटों में 13-21, 16-21 से हार गए। पूरा मुकाबला 38 मिनट चला जिसमें भारतीय शटलरों को सिल्वर से ही संतोष करना पड़ा।

Doordarshan Sports
 
@ddsportschannel
 
 

CONGRATULATIONS ✌️ and @satwiksairaj becomes the first badminton men’s doubles pair from to win a medal at the

 

टेबल टेनिस : अचंत शरत कमल ने पुरुषों की एकल वर्ग स्पर्धा का ब्रॉन्ज अपने नाम किया। शरत का ब्रॉन्ज के लिए इंग्लैंड के सैमुएल वॉकर से मुकाबला हुआ था जो उन्होंने 4-1 (11-7, 11-9, 9-11, 11-6, 12-10) से हराकर जीता।

Doordarshan Sports
 
@ddsportschannel
 
 

Veteran wins bronze in men's singles beats 4-1 in five games

 


मिक्सड डबल्स में मनिका बत्रा और साथियान गणाशेखरन ने भी ब्रॉन्ज मैडल अपने नाम किया। मनिका-साथियान की जोड़ी ने हमवतन शरथ-मौमा को एकतरफा मुकाबले में 3-0 (11-6, 11-2,11-4) से हराकर इन खेलों का पहला ब्रॉन्ज भी हासिल किया

स्कवॉश : महिला डबल में दीपिका पल्लिकल कार्तिक और जोशना चित्नप्पा की जोड़ी को भी फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। जोशना-दीपिका का फाइनल में न्यूजीलैंड की जोले किंग और अमांडा लैंडर्स मर्फी से मुकाबला था जो वह महज 21 मिनट तक चले मैच दौरान 11-9, 11-8 से हार गईं। इस तरह दोनों को सिल्वर मैडल से ही संतोष करना पड़ा।

Doordarshan Sports
 
@ddsportschannel
 
 

It’s ? for @joshnachinappa and @DipikaPallikal as they lose to New Zealand’s and in straight games in of Squash Women’s Doubles Final

Rate this item
(0 votes)
Super User

Selfies labore, leggings cupidatat sunt taxidermy umami fanny pack typewriter hoodie art party voluptate. Listicle meditation paleo, drinking vinegar sint direct trade.

www.themewinter.com

Leave a comment

Make sure you enter all the required information, indicated by an asterisk (*). HTML code is not allowed.

Visitor Counter

Today 250

Week 748

Month 837

All 837

Currently are 192 guests and no members online

Facebook LikeBox

Post Gallery

नाबालिग छात्रा के साथ गैंगरेप

एबीवीपी का सदस्यता अभियान

कश्मीर में शूटिंग करते सलमान खान की ये तस्वीरें हुर्इ वायरल

मैं कभी कास्टिंग काउच का शिकार नहीं हुआ - रणबीर कपूर

Asaram Verdict: रेप पीड़िता के पिता बोले, न्‍याय मिला

मोदी-माल्या पर शिकंजा कसेगी ED, नए अध्यादेश के तहत होगी संपत्ति कुर्क

भगवान बनकर लोगों को लूटने वाले ये चार बाबा भी हैं सलाखों के पीछे

नाबालिग से रेप केस में आसाराम को उम्रकैद, फैसला सुनते ही फूट-फूट कर रोया

आसाराम न्यायालय मे सजा सुनते ही रो पडा