Login to your account

Username *
Password *
Remember Me

Create an account

Fields marked with an asterisk (*) are required.
Name *
Username *
Password *
Verify password *
Email *
Verify email *
Captcha *
Reload Captcha

कोलकाता। आगामी पंचायत चुनावों को ध्यान में रखते हुए पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने अपना घोषणापत्र जारी किया है। लेकिन बीजेपी के इस घोषणापत्र पर विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल, बीजेपी ने इस घोषणापत्र में बांग्लादेश दंगों की तस्वीर लगा दी। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, बीजेपी बंगाल ने जो अपने घोषणापत्र पर फोटो लगाई हैं वे साल 2013 में ढाका में हुए दंगों की हैं। पार्टी ने इन तस्वीरों का इस्तेमाल ये दावा करने के लिए किया कि बंगाल में कानून व्यवस्था लचर है। लेकिन इसमें एक तस्वीर को छोड़ दें तो अन्य तस्वीरों का राज्य की कानून व्यवस्था से दूर-दूर तक ताल्लुक नहीं हैं।

बता दें कि मंगलवार को प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने पार्टी के अन्य दिग्गज नेताओं के साथ मिलकर बीजेपी का घोषणापत्र जारी किया था। आगामी पंचायत चुनावों में बीजेपी दूसरी बड़ी पार्टी बनकर उभरने की तैयारियों में जुटी हुई है। बीजेपी द्वारा अपने घोषणापत्र में बांग्लादेश दंगों की तस्वीरों का इस्तेमाल करने को लेकर पार्टी विपक्ष के निशाने पर आ गई है। इस मामले पर तृणमूल कांग्रेस ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए इस कार्य को ठगने वाला बताया है। वहीं अपने बचाव में बीजेपी का कहना है कि इन तस्वीरों का इस्तेमाल बंगाल की स्थिति दिखाने के लिए किया गया है। मीडिया से बातचीत के दौरान इस मामले पर दिलीप घोष ने कहा,“जो वर्तमान में बंगाल की स्थिति है वह इसके माध्यम से हम दर्शाना चाहते हैं।” इतना ही नहीं बीजेपी का यह भी कहना है कि यह गलती से नहीं बल्कि जानकर किया गया है। इन तस्वीरों को लेकर बीजेपी ने अपना बचाव यह कहते हुए किया कि बाग्लादेश दंगों के बाद राज्य में घटी घटनाओं को दर्शाने के लिए इन तस्वीरों का इस्तेमाल किया गया है।  

कर्नाटक विधानसभा चुनाव में अपनी फतह पक्की करने के लिए सभी राजनीतिक पार्टियों ने साम दाम दंड भेद का दांव अपनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। इस लड़ाई में सबसे अधिक वार व पलटवार बीजेपी द्वारा सिद्धारमैया व सत्ताधारी पार्टी कांग्रेस पर किया जा रहा है। कांग्रेस के टिकट बंटवारे पर बीजेपी ने जमकर निशानासाधा, लेकिन अब मौका कांग्रेस के पास है। भाजपा ने जो अपने उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की है, उनमें उन तीन उम्मीदवारों के नाम भी शामिल हैं, जो कि साल 2012 में कर्नाटक विधानसभा में पोर्न देखते पकड़े गए थे।  हाल ही में कर्नाटक विधानसभा चुनावों के लिए बीजेपी ने अपने उम्मीदवारों की चौथी सूची जारी की है। भाजपा 224 सीटों वाली कर्नाटक विधानसभा के लिए 220 उम्मीदवारों का ऐलान कर चुकी है।

चाल चरित्र चेहरा बेनकाब
बीजेपी हमेशा टिकट बंटवारे पर चाल चरित्र चेहरा की बात करके अपनी स्वघोषित बढृाई कर खुद ही अपनी पीठ थपथपा लेने का काम करती रही है। कर्नाटक विधानसभा चुनाव में जिस तरह बीजेपी ने इन 3 विधायकों को टिकट दिया उससे पार्टी के इस टैग लाइन की हकीकत सामने आ गई है। एडीआर की रिपोर्ट में भी इस बात का जिक्र है कि बीजेपी के सबसे ज्यादा 12 सांसद-विधायकों के खिलाफ महिलाओं से जुड़े अपराध के मामले में मुकदमा चल रहा है, दूसरे नंबर पर शिवसेना के सात और फिर तृणमूल कांग्रेस के छह सांसद-विधायक हैं। इसमें कुल 45 सांसद और तीन विधायक हैं। महिलाओं के खिलाफ जुर्म में सबसे ज्यादा 12 सांसद-विधायक महाराष्ट्र के हैं तो दूसरे नंबर पर पश्चिम बंगाल के 11 और आंध्र प्रदेश के पांच माननीय हैं। वहीं ओडिशा और आंध्र प्रदेश में पांच-पांच सांसद-विधायक हैं।
 

Nalini Singh@NaliniSingh_
 

All 3 BJP MLAs who were caught watching porn in the Karnataka Assembly, have been given tickets by BJP.

Another Masterstroke by Modi Shah

 
 क्या था मामला

जब कर्नाटक में भाजपा सरकार सत्ता में थी, तब सरकार में मंत्री और भाजपा विधायक लक्ष्मण सावादी विधानसभा की कार्यवाही के दौरान मोबाइल फोन पर पोर्न देखते पकड़े गए थे। उनके साथ उसी सरकार में पर्यावरण मंत्री जे.कृष्णा पालेमर और महिला एवं बाल विकास मंत्री सीसी पाटिल भी लक्ष्मण सावदी के फोन में पोर्न देखने मशगूल थे। ये तीनों जब पोर्न देखने में मशगूल थे तब विधानसभा में सूखे के हालात पर चर्चा चल रही थी। इस दौरान विधानसभा की कार्यवाही कवर कर रहे मीडिया के कैमरों ने इन मंत्रियों को पोर्न देखते रंगे हाथ पकड़ा था। इस घटना के मीडिया में आने के बाद काफी हंगामा हुआ था। विपक्षी पार्टियों ने आरोपी नेताओं के इस्तीफे की भी मांग की थी। हालांकि अपने बचान में मंत्री लक्ष्मण सावादी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा था कि ‘मिस्टर पालेमार मुझे पश्चिमी देश में हुए एक महिला के गैंगरेप की वीडियो दिखा रहे थे, जिसे ब्लू फिल्म समझ लिया गया, लेकिन वह ब्लू फिल्म नहीं थी।’

भुवनेश्वर। महानदी जल को लेकर उत्पन्न विवाद के बीच मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने छत्तीसगढ़ भाजपा सरकार के साथ ही केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोला है। मुख्यमंत्री पटनायक ने कहा है कि महानदी के पानी को छत्तीसगढ़ एवं केंद्र की भाजपा सरकार ने मिलकर रोका है। महानदी को बचाने की जरूरत है और इसके लिए बीजू जनता दल (बीजद) कार्यकर्ता आगे आए हैं।

राजधानी स्थित बीजद मुख्यालय में राज्यस्तरीय कार्यकर्ता सम्मेलन में मुख्यमंत्री ने कहा कि महानदी का पानी सूखती जा रही है। इस पर हम केंद्र सरकार से ट्रिब्यूनल गठन करने की मांग करते रहे मगर केंद्र ने हमारी एक नहीं सुनी। अंत में सुप्रीम कोर्ट ने ट्रिब्यूनल गठन करने का निर्देश दिया, इस बात को पार्टी के नेता एवं कार्यकर्ता राज्य की जनता को घर-घर जाकर बताएं। मुख्यमंत्री ने कहा कि छतीसगढ़ की रमन सरकार महानदी पर बैराज बना रही है और केंद्र की मोदी सरकार उसका समर्थन कर रही है।

दोनों ही भाजपा सरकारों ने महानदी को सुखाने का काम किया है। बीजद कार्यकर्ता लोगों के पास जाकर भाजपा सरकार की कारगुजारी उन्हें बताएं। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने महानदी महासंग्राम नामक पुस्तक का विमोचन भी किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस पुस्तक को गांव-गांव एवं घर-घर तक पहुंचाना है। ताकि लोगों को भाजपा सरकार के रवैये का पता चल सके। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि महानदी को लेकर हमारा स्टैंड शुरू से एक रहा है। हम अपने अंतिम रक्त बूंद तक महानदी के लिए संग्राम जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार महानदी के किनारे ग्रीन सर्कल बनाने की योजना पर काम कर रही है। महानदी कबचाना हमारी प्राथमिकताओं में से एक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ओडिशवासी किसी भी कीमत पर महानदी को सूखने नहीं देंगे। 

उल्लेखनीय है कि 2019 आम चुनाव से पहले बीजद राज्य में महानदी मुद्दे को एक बार फिर सरगर्म करना चाहती है। इस सम्मेलन में बीजद केसांसद, विधायक एवं म्युनिसिपल्टी के चेयरमैन तथा 15 जिला के जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। 

गंगटोक। इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आइटीबीपी) द्वारा सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थित स्कूलों की मदद के लिए पठनीय पुस्तकों का वितरण की योजना का शुभारंभ किया गया। सीविक एक्शन के तहत इस योजना का शुभारंभ उत्तरी सिक्किम चुंगथाग पास स्थित आइटीबीपी के 11 वीं वाहिनी द्वारा चुंगथाग पाब्लिक स्कूल ने किया। वाहिनी के सेनानी राजेश कुमार तोमर स्वयं विद्यार्थियों में पुस्तक वितरण किया।

इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हालाकि आइटीबीपी सीविक एक्शन के तहत स्थानीय लोगों व विद्यार्थियों के लिए कई सारे योजनाओं को क्रियान्वयन करते आ रहे हैं। जो भविष्य में भी जारी रहेगा। उन्होंने विगत के दिनों में भारत भ्रमण, कंप्युटर प्रशिक्षण, जुडो प्रशिक्षण, योगा प्रशिक्षण आदि देने की जानकारी दिया।

उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों में ज्ञान अभिवृद्धि में किताबी ज्ञान तक सीमित रखना अनुचित होगा। बल्कि स्कूल के किताब के अलावा अन्य पठनीय पुस्तकें भी अध्ययन जरुरी है। ताकि सामान्य ज्ञान बढ़ाया जा सके। इसी ध्येय से आइटीबीपी ने पुस्तकं वितरण करने का निर्णय लिया। उन्होंने विद्यार्थियों के बीच मिठाइया बांटी 

संबलपुर। बीजेपुर उपचुनाव के दौरान घटित हिंसा और डिलेश्वर साहू उर्फ मागी नामक एक बीजद कार्यकर्ता की मौत के बाद गिरफ्तार भाजपा के पूर्वमंत्री व संबलपुर के पूर्व विधायक जयनारायण मिश्र को शनिवार के दिन इलाज के लिए बुर्ला स्थित वीर सुरेंद्र साय इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च में भर्ती कराया गया है। 

 बताया गया है कि सीने में दर्द की वजह से उनकी तबीयत बिगडऩे के बाद अदालत के निर्देश पर कड़ी सुरक्षा के बीच अस्पताल में भर्ती कराया गया। वर्तमान में उन्हें हास्पिटल के विशेष केबिन में गया है। डाक्टर के अनुसार पूर्वमंत्री मिश्र उच्च रक्तचाप से पीडि़त है। अपने लोकप्रिय नेता की तबीयत खराब होने का पता चलने के बाद उनके

चहेते और समर्थक हास्पिटल पहुंचने लगे हैं। गौरतलब है कि 22 फरवरी 2018 की रात बरगढ़ जिला के सोहेला थाना अंतर्गत बनाबिरा आश्रम केनिकट बीजेपुर उपचुनाव को लेकर हिंसक झड़प हुई थी। उस दौरान पूर्वमंत्री जयनारायण और उनके समर्थक आश्रम में थे। इस झड़प में बीजद के मंत्री सुशांत सिंह के भाई सुब्रत सिंह और अन्य तीन घायल हो गए थे। दो दिन बाद घायल डिलेश्वर साहू उर्फ मागी की मौत हो गई थी और इसी के बाद सोहेला पुलिस ने झड़प में शामिल आरोपितों की गिरफ्तारी शुरू कर दी थी। सोहेला पुलिस की टीम ने 15 मार्च के दिन पूर्वमंत्री जयनारायण मिश्र और उनके समर्थक शिवकुमार दीवार को संबलपुर से गिरफ्तार कर ले गई थी। तभी से पूर्व मंत्री जयनारायण और उनके समर्थक न्यायिक हिरासत में है।

अप्रैल 17 के दिन स्थानीय धनुपाली पुलिस ने दोनों को एक पुराने मामले की पेशी के लिए संबलपुर लाकर अदालत में हाजिर करने के बाद वापस सोहेला जेल भेज दिया था। संबलपुर में पूर्वमंत्री जयनारायण ने अपनी गिरफ्तारी को बीजद की साजिश बताते हुए खुलासा किया था कि बीजद में शामिल होने से इंकार कर देने के बाद उन्हें झूठे मामलों में फंसाया जा रहा है। शनिवार के दिन जब पूर्वमंत्री जयनारायण को सोहेला जेल से बुर्ला स्थित मेडिकल हास्पिटल में स्थानांतरित किया गया तब भाजपा नेता नाउरी नायक, गिरिश पटेल एवं अन्य उनके साथ रहे और बताया कि दो दिन पहले सीने में दर्द की शिकायत के बाद जेल प्रबंधन ने अदालत में आवेदन किया था, जिसे मंजूर कर लिए जाने के बाद इलाज के लिए बुर्ला स्थानांतरित किया गया है। गौरतलब है कि वर्ष 2016 में भी जयनारायण को इलाज के लिए नई दिल्ली स्थित एम्स में भर्ती होना पड़ा था जहां उनका ऑपरेशन हुआ था।

कोलकाता। निवेश की तलाश में जुटीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जून के अंत में चीन के दौरे पर जाएंगी। उनकी यात्रा का उद्देश्य बंगाल में चीन से निवेश लाना है। नवान्न सूत्रों के मुताबिक चीन का एक व्यापार संगठन ने मुख्यमंत्री को आमंत्रित किया है। मुख्यमंत्री ने आमंत्रण स्वीकार किया है। उनके साथ राज्य के उद्योगपतियों का एक प्रतिनिधि मंडल में भी चीन जाएगा। चीन में उद्योग सम्मेलन में शामिल होने के अतिरिक्त वह कई शैक्षणिक कार्यक्रम में भी भाग लेंगी। विनिर्माण क्षेत्र में चीन दुनिया में अपनी पहचान रखता है। राज्य में विनिर्माण क्षेत्र में विदेशी निवेश लाने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री का चीन दौरा अहम माना जा रहा है। इसके पहले वह जर्मनी, इंग्लैंड समेत कई और देशों का दौरा कर चुकी हैं। मुख्यमंत्री के निमंत्रण पर प्रवासी भारतीय एलएन मित्तल ने जनवरी में कोलकाता में आयोजित बंगाल ग्लोबल बिजनेस समिट में भाग लिया और राज्य में कई क्षेत्रों में निवेश की पेशकश की है।

बेंगलूरु। फरवरी में जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कर्नाटक आए थे तो उससे एक सप्ताह पहले ही करीब सोशल मीडिया में पारंगत करीब 10 लोगों की टीम ने बेंगलुरु में डेरा डाल दिया था। उन्हें जिम्मेदारी दी गई थी कि वे सोशल मीडिया के जरिए राहुल के आसपास के मंदिर दर्शनों को प्रचारित करें। सोशल मीडिया पर प्रचार की यह मुहिम तब चर्चा में आई जब येद्दियुरप्पा के साथ बैठक में उनकी सोशल टीम ने हिंदू चुनाव नाम की नई थीम गढ़ दी। इसके बाद 8 घंटे में इस नई थीम पर करीब 3 लाख लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की। इसी तरह से कांग्रेस भी सोशल मीडिया के जरिए विपक्ष पर भरपूर वार कर रही है। अगले महीने होने वाले चुनाव में राज्य में कांग्रेस, भाजपा और जी.डी.एस. ही मुख्य रूप से दावेदार हैं। इन तीनों पार्टियों ने अपनी अपनी तरफ से अच्छे-खासे लोगों की टीम सोशल मीडिया पर लगा दी है।

इसी साल की शुरुआत में मुम्बई की आइरिस नॉलेज नाम की एक संस्था के अनुसार देश की 543 सीटों में से करीब 160 सीटें ऐसी हैं जिन पर सोशल मीडिया काफी प्रभावी रहेगा। वहीं 67 सीटें ऐसी हैं जिन पर इसका प्रभाव थोड़ा कम होगा। जे.डी.एस. के सोशल मीडिया प्रचारक व एक बहुराष्ट्रीय कम्पनी में कार्यरत सी. नवीन का कहना है कि 2013 में 6 मिलियन मतदाताओं में से हमने करीब अढ़ाई लाख को अपनी तरफ सोशल मीडिया के जरिए अपने पाले में किया था। एक सूत्र का कहना है कि इसके लिए पार्टियां 50 हजार से 5 लाख रुपए प्रति माह के वेतन पर इस तरह के सोशल मीडिया एक्सपर्ट को हायर करती हैं।

कोलकाता। पत्नी रत्ना चटर्जी द्वारा कथित तौर पर लगातार दिए जा रहे धमकियों से डरे कोलकाता के मेयर शोभन चटर्जी ने अब स्थानीय थाने पर निष्क्रियता का आरोप लगाते हुए पुलिस आयुक्त (सीपी) राजीव कुमार के पास अर्जी लगाई है।

मेयर ने सीपी को चिट्ठी लिखकर पर्णश्री थाने के अधिकारियों के खिलाफ शिकायत की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि पत्नी की आपराधिक मानसिकता के खिलाफ लगातार शिकायतें करने के बाद, कार्रवाई करने की जगह पुलिस वाले पत्नी रत्ना चटर्जी की ही बातें सुन रहे हैं। इसके पीछे उन्होंने पर्णश्री थाने के ओसी पर आरोप मढ़ा है। उन्होंने दावा किया है कि तमाम शिकायतों के बावजूद थाने के ओसी रत्ना की सुविधा के हिसाब से ही काम कर रहे हैं।

उन्होंने इस चिट्ठी में थाना अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई व पत्नी के खिलाफ भी कदम उठाने की मांग की है। उल्लेखनीय है कि उन्होंने मंगलवार को पर्मश्री थाने में तीसरी शिकायत दर्ज कराई थी जिसमें आरोप लगाया था कि महारानी इंद्रा दत्त रोड स्थित उनके पैतृक आवास पर उन्हें घुसने से रोका जा रहा है।

उन्होंने बताया है कि उनके पैतृक आवास पर काफी संपत्ति सहित पत्नी से चल रहे मुकदमें के दस्तावेज हैं। इसके लिए उन्होंने प्राइवेट सुरक्षाकर्मी तैनात किया है और आवास पर आने-जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति का ब्यौरा रजिस्टर में लिखने को उन्होंने कहा है लेकिन आरोप है कि उनकी पत्नी अनजान महिलाओं को लाती हैं और उनका ब्यौरा लिखने के लिए कहने वाले सुरक्षा कर्मियों को धमकाती हैं।

पत्नी पर सजिशन संपत्ति हथियाने का आरोप

उन्होंने आशंका जताई है कि पत्नी उनकी संपत्ति पर हाथ साफ कर सकती है, इसीलिए घर में संदिग्ध लोगों को ला रही है जिनका ब्यौरा भी आवास के रजिस्टर में दर्ज नहीं होने देती हैं। हालांकि मेयर की चिट्ठी के बाद पुलिस ने उनके आवास पर दो पुलिस कर्मियों की तैनाती कर दी है।

गुरुवार से सुबह 8 से रात 12 बजे तेक उनके आवास पर ये दोनों पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं। इसके पहले भी दो लिखित शिकायतें मेयर अपनी पत्नी व उनकी एक सहेली के खिलाफ दर्ज करा चुके हैं जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि पत्नी अपनी सहेली को आपराधिक साजिश के तहत जबरदस्ती घर में ला रही हैं और रोकने पर जान से मारने की धमकी भी दी हैं। इन शिकायतों से संबंधित प्रतियां भी मेयर ने सीपी को दी है। हालांकि इसपर कोलकाता पुलिस आयुक्त ने क्या कदम उठाया है, यह अभी साफ नहीं है।

पत्नी से लड़ रहे हैं तलाक का मुकदमा

ज्ञात हो कि दूसरी ओर एक शिक्षिका से कथित संबंधों को लेकर मेयर ने पत्नी से तलाक का केस हाईकोर्ट में दाखिल किया है, जिस पर सुनवाई चल रही है। पिछली सुनवाई में रत्ना ने साफ कहा था कि वे पति को छोडऩे के मूड में नहीं हैं और इसके लिए जितनी लड़ाइयां लडऩी हैं, लड़ेंगी।  

भुवनेश्वर। राजधानी भुवनेश्वर स्थित कलिंग स्टेडियम में आगामी नवंबर-दिसंबर में होने वाले पुरुष हाकी विश्व कप से पहले राजधानी भुवनेश्वर की रूपरेखा बदल जाएगी। हाकी विश्व कप से पहले राजधानी को वाइफाई शहर में तब्दील किया जाएगा। इसके लिए 75 जगहों पर 300 आसेस प्वाइंट बनाया जाएगा।

लोगों को हाईस्पीड इंटरनेट की सुविधा दी जाएगी। उपभोक्ता को पहले आधा घंटा मुफ्त वाइफाई सेवा दी जाएगी, जबकि इसके बाद प्रयोग करने पर कुछ देय देना होगा। इस संबंध में एक प्रस्ताव पर गुरुवार को राज्य सचिवालय में मुख्य सचिव आदित्य प्रसाद पाढ़ी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में मुहर लग गई है। उसी तरह हाकी विश्व कप को लेकर ब्लू प्रिंट तैयार कर किया गया है। इसे ठीक समय से खत्म करने पर बैठक में जोर दिया गया। इसके अलावा हाकी विश्वकप से पहले राजधानी भुवनेश्वर में 200 नई बसें चलाने के लिए बीपीटीएस योजना बनायी है, जिसमें से 100 नई बस चलाने का निर्णय लिया गया है। जिसमें 50 एसी बस एवं 50 नान एसी बस चलेगी।

इस संबंध में टेंडर प्रक्रिया खत्म हो गई है। 30 अप्रैल तक करारनामा हस्ताक्षर कर लिया जाएगा। सिटी बस के लिए पात्रपड़ा, पटिया एवं पोखरीपुट में डीपो बनाया जाएगा। तीन रूट में सिटी बस को चलाया जाने पर महत्व दिया गया है। कीट चौक से लिंगराज चौक, जनता मैदान से कलिंग स्टेडियम व राजधानी के 20 पर्यटन स्थली को लेकर रूट तैयार किया गया है। इन रूटों पर नियमित अंतराल पर सिटी बसें चलेंगी। 25 अप्रैल तक पर्यटन विभाग को पर्यटन स्थलों की पहचान कर रिपोर्ट देने को कहा गया है। विश्व कप से पहले राज्य सकार राजधानी में 3500 साइकिल देने का निर्णय लिया है, जिसे आमजन किराए पर ले सकते है। इसके लिए टेंडर प्रक्रिया खत्म हो गई है, जबकि 10 मई तक करारनामा प्रक्रिया भी सम्पन्न कर ली जाएगी। विश्वकप से पहले राजधानी के लोग एवं पर्यटकों को एक अनूठा अनुभव मिले इसके लिए ऐतिहासिक पदयात्रा, पथोत्सव, पार्कों में संगीत संध्या, पारंपरिक नृत्य एवं कला शिविर, खाद्य बाजार, चलचित्र महोत्सव आदि आयोजित किया जाएगा।28 नवंबर से 16 दिसंबर तक आयोजित होने वाले हाकी विश्व कप में 16 टीमें भाग ले रही हैं। हर दिन शाम पांच बजे मैच शुरू होगा। 12 एवं 13 दिसम्बर को क्वाटर फाइनल होगा, जबकि 15 को सेमीफाइनल एवं 16 दिसंबर को फाइनल मैच खेला जाएगा। मुख्य सचिव आदित्य प्रसाद पाढ़ी की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में सचिव अशोक मीना, मोना शर्मा, हेमन्त शर्मा, केल विभाग के सचिव विशाल देव प्रमुख उपस्थित थे।

 

पणजी। भाजपा के एक नेता ने कहा कि अमेरिका में अग्नाशय संबंधी रोग का इलाज करवा रहे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर की स्थिति सुधर रही है लेकिन डॉक्टरों से अनुमति मिलने के बाद ही वह अपने गृह राज्य लौटेंगे। पिछले हफ्ते गोवा भाजपा के महासचिव सदानंद तनवाडे ने कहा था कि पार्रिकर अगले महीने लौट सकते हैं। करककोरेम के भाजपा विधायक नीलेश काबराल ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा , ‘‘मुख्यमंत्री पर इलाज का अच्छा असर हो रहा है और उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। पार्रिकर का इलाज कर रहे डॉक्टरों की अनुमति पर ही वह गोवा लौटेंगे।’’

काबराल ने हाल ही में कांग्रेस नेताओं द्वारा दिए गए इस बयान को खारिज कर दिया कि पूर्व रक्षा मंत्री की स्थिति के बारे में भाजपा की अगुवाई वाली गोवा सरकार कोई अद्यतन मेडिकल जानकारी नहीं दे रही है। भाजपा विधायक ने कहा, ‘‘मुख्यमंत्री कार्यालय उनके स्वास्थ्य के बारे में समय-समय पर बयान जारी करता रहा है। मैंने पिछले डेढ़ महीने में उनसे कई बार बातचीत की है और जितनी बार मैंने उन्हें फोन किया, उन्होंने मुझसे बातचीत की। मैं आपको आश्वासन दे सकता हूं कि वह ठीक हो रहे हैं।’’

कांग्रेस नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल सोमवार को राजभवन में राज्यपाल मृदुला सिन्हा से मिला था और उसने मांग की थी कि राज्य सरकार पार्रिकर के स्वास्थ्य के बारे में नियमित रुप से जानकारी दे। इस साल 14 फरवरी को पेटदर्द की शिकायत के बार पार्रिकर को अगले दिन मुम्बई के लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें 22 फरवरी को छुट्टी मिली थी और उन्होंने दिन गोवा विधानसभा में बजट पेश किया। उन्हें फिर पांच मार्च को लीलावती अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां से फिर उन्हें अमेरिका ले जाया गया।

Page 1 of 2

Visitor Counter

Today 1

Week 749

Month 838

All 838

Currently are 219 guests and no members online

Facebook LikeBox

Post Gallery

नाबालिग छात्रा के साथ गैंगरेप

एबीवीपी का सदस्यता अभियान

कश्मीर में शूटिंग करते सलमान खान की ये तस्वीरें हुर्इ वायरल

मैं कभी कास्टिंग काउच का शिकार नहीं हुआ - रणबीर कपूर

Asaram Verdict: रेप पीड़िता के पिता बोले, न्‍याय मिला

मोदी-माल्या पर शिकंजा कसेगी ED, नए अध्यादेश के तहत होगी संपत्ति कुर्क

भगवान बनकर लोगों को लूटने वाले ये चार बाबा भी हैं सलाखों के पीछे

नाबालिग से रेप केस में आसाराम को उम्रकैद, फैसला सुनते ही फूट-फूट कर रोया

आसाराम न्यायालय मे सजा सुनते ही रो पडा